Description

In this stotra, Yama the Lord of death tells his dutas not to touch those who praise Lord Ganesha.

गणेश हेरम्ब गजाननेति महोदर स्वानुभवप्रकाशिन्। वरिष्ठ सिद्धिप्रिय बुद्धिनाथ वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः। अनेकविघ्नान्तक वक्रतुण्ड स्वसंज्ञवासिंश्च चतुर्भुजेति। कवीश देवान्तकनाशकारिन् वदन्तमेवं त्यजत प....

गणेश हेरम्ब गजाननेति
महोदर स्वानुभवप्रकाशिन्।
वरिष्ठ सिद्धिप्रिय बुद्धिनाथ
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
अनेकविघ्नान्तक वक्रतुण्ड
स्वसंज्ञवासिंश्च चतुर्भुजेति।
कवीश देवान्तकनाशकारिन्
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
महेशसूनो गजदैत्यशत्रो
वरेण्यसूनो विकट त्रिनेत्र।
परेश पृथ्वीधर एकदन्त
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
प्रमोद मेदेति नरान्तकारे
षडूर्मिहन्तर्गजकर्ण ढुण्ढे।
द्वन्द्वाग्निसिन्धो स्थिरभावकारिन्
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
विनायक ज्ञानविघातशत्रो
पराशरस्यात्मज विष्णुपुत्र।
अनादिपूज्याखुग सर्वपूज्य
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
वैरिञ्च्य लम्बोदर धूम्रवर्ण
मयूरपालेति मयूरवाहिन्।
सुरासुरैः सेवितपादपद्म
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
करिन् महाखुध्वज शूर्पकर्ण
शिवाज सिंहस्थ अनन्तवाह।
जयौघ विघ्नेश्वर शेषनाभे
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
अणोरणीयो महतो महीयो
रवीश योगेशज ज्येष्ठराज।
निधीश मन्त्रेश च शेषपुत्र
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
वरप्रदातरदितेश्च सूनो
परात्पर ज्ञानद तारक्त्र।
गुहाग्रज ब्रह्मप पार्श्वपुत्र
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
सिन्धोश्च शत्रो परशुप्रपाणे
शमीशपुष्पप्रिय विघ्नहारिन्।
दूर्वाङ्कुरैरर्चित देवदेव
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
धियः प्रदातश्च शमीप्रियेति
सुसिद्धिदातश्च सुशान्तिदातः।
अमेयमायामितविक्रमेति
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
द्विधाचतुर्थीप्रिय कश्यपार्च्य
धनप्रद ज्ञानप्रदप्रकाश।
चिन्तामणे चित्तविहारकारिन्
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
यमस्य शत्रो अभिमानशत्रो
विधूद्भवारे कपिलस्य सूनो।
विदेह स्वानन्द अयोगयोग
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
गणस्य शत्रो कमलस्य शत्रो
समस्तभावज्ञ च भालचन्द्र।
अनादिमध्यान्त भयप्रदारिन्
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।
विभो जगद्रूप गणेश भूमन्
पुष्टेः पते आखुगतेऽतिबोध।
कर्तश्च पालश्च तु संहरेति
वदन्तमेवं त्यजत प्रभीताः।


గణేశ హేరంబ గజాననేతి
మహోదర స్వానుభవప్రకాశిన్।
వరిష్ఠ సిద్ధిప్రియ బుద్ధినాథ
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
అనేకవిఘ్నాంతక వక్రతుండ
స్వసంజ్ఞవాసింశ్చ చతుర్భుజేతి।
కవీశ దేవాంతకనాశకారిన్
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
మహేశసూనో గజదైత్యశత్రో
వరేణ్యసూనో వికట త్రినేత్ర।
పరేశ పృథ్వీధర ఏకదంత
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
ప్రమోద మేదేతి నరాంతకారే
షడూర్మిహంతర్గజకర్ణ ఢుంఢే।
ద్వంద్వాగ్నిసింధో స్థిరభావకారిన్
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
వినాయక జ్ఞానవిఘాతశత్రో
పరాశరస్యాత్మజ విష్ణుపుత్ర।
అనాదిపూజ్యాఖుగ సర్వపూజ్య
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
వైరించ్య లంబోదర ధూమ్రవర్ణ
మయూరపాలేతి మయూరవాహిన్।
సురాసురైః సేవితపాదపద్మ
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
కరిన్ మహాఖుధ్వజ శూర్పకర్ణ
శివాజ సింహస్థ అనంతవాహ।
జయౌఘ విఘ్నేశ్వర శేషనాభే
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
అణోరణీయో మహతో మహీయో
రవీశ యోగేశజ జ్యేష్ఠరాజ।
నిధీశ మంత్రేశ చ శేషపుత్ర
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
వరప్రదాతరదితేశ్చ సూనో
పరాత్పర జ్ఞానద తారక్త్ర।
గుహాగ్రజ బ్రహ్మప పార్శ్వపుత్ర
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
సింధోశ్చ శత్రో పరశుప్రపాణే
శమీశపుష్పప్రియ విఘ్నహారిన్।
దూర్వాంకురైరర్చిత దేవదేవ
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
ధియః ప్రదాతశ్చ శమీప్రియేతి
సుసిద్ధిదాతశ్చ సుశాంతిదాతః।
అమేయమాయామితవిక్రమేతి
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
ద్విధాచతుర్థీప్రియ కశ్యపార్చ్య
ధనప్రద జ్ఞానప్రదప్రకాశ।
చింతామణే చిత్తవిహారకారిన్
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
యమస్య శత్రో అభిమానశత్రో
విధూద్భవారే కపిలస్య సూనో।
విదేహ స్వానంద అయోగయోగ
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
గణస్య శత్రో కమలస్య శత్రో
సమస్తభావజ్ఞ చ భాలచంద్ర।
అనాదిమధ్యాంత భయప్రదారిన్
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।
విభో జగద్రూప గణేశ భూమన్
పుష్టేః పతే ఆఖుగతేఽతిబోధ।
కర్తశ్చ పాలశ్చ తు సంహరేతి
వదంతమేవం త్యజత ప్రభీతాః।


க³ணேஶ ஹேரம்ப³ க³ஜானனேதி
மஹோத³ர ஸ்வானுப⁴வப்ரகாஶின்।
வரிஷ்ட² ஸித்³தி⁴ப்ரிய பு³த்³தி⁴நாத²
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
அனேகவிக்⁴னாந்தக வக்ரதுண்ட³
ஸ்வஸஞ்ஜ்ஞவாஸிம்ʼஶ்ச சதுர்பு⁴ஜேதி।
கவீஶ தே³வாந்தகநாஶகாரின்
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
மஹேஶஸூனோ க³ஜதை³த்யஶத்ரோ
வரேண்யஸூனோ விகட த்ரிநேத்ர।
பரேஶ ப்ருʼத்²வீத⁴ர ஏகத³ந்த
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
ப்ரமோத³ மேதே³தி நராந்தகாரே
ஷடூ³ர்மிஹந்தர்க³ஜகர்ண டு⁴ண்டே⁴।
த்³வந்த்³வாக்³நிஸிந்தோ⁴ ஸ்தி²ரபா⁴வகாரின்
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
விநாயக ஜ்ஞானவிகா⁴தஶத்ரோ
பராஶரஸ்யாத்மஜ விஷ்ணுபுத்ர।
அநாதி³பூஜ்யாகு²க³ ஸர்வபூஜ்ய
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
வைரிஞ்ச்ய லம்போ³த³ர தூ⁴ம்ரவர்ண
மயூரபாலேதி மயூரவாஹின்।
ஸுராஸுரை꞉ ஸேவிதபாத³பத்³ம
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
கரின் மஹாகு²த்⁴வஜ ஶூர்பகர்ண
ஶிவாஜ ஸிம்ʼஹஸ்த² அனந்தவாஹ।
ஜயௌக⁴ விக்⁴னேஶ்வர ஶேஷநாபே⁴
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
அணோரணீயோ மஹதோ மஹீயோ
ரவீஶ யோகே³ஶஜ ஜ்யேஷ்ட²ராஜ।
நிதீ⁴ஶ மந்த்ரேஶ ச ஶேஷபுத்ர
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
வரப்ரதா³தரதி³தேஶ்ச ஸூனோ
பராத்பர ஜ்ஞானத³ தாரக்த்ர।
கு³ஹாக்³ரஜ ப்³ரஹ்மப பார்ஶ்வபுத்ர
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
ஸிந்தோ⁴ஶ்ச ஶத்ரோ பரஶுப்ரபாணே
ஶமீஶபுஷ்பப்ரிய விக்⁴னஹாரின்।
தூ³ர்வாங்குரைரர்சித தே³வதே³வ
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
தி⁴ய꞉ ப்ரதா³தஶ்ச ஶமீப்ரியேதி
ஸுஸித்³தி⁴தா³தஶ்ச ஸுஶாந்திதா³த꞉।
அமேயமாயாமிதவிக்ரமேதி
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
த்³விதா⁴சதுர்தீ²ப்ரிய கஶ்யபார்ச்ய
த⁴னப்ரத³ ஜ்ஞானப்ரத³ப்ரகாஶ।
சிந்தாமணே சித்தவிஹாரகாரின்
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
யமஸ்ய ஶத்ரோ அபி⁴மானஶத்ரோ
விதூ⁴த்³ப⁴வாரே கபிலஸ்ய ஸூனோ।
விதே³ஹ ஸ்வானந்த³ அயோக³யோக³
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
க³ணஸ்ய ஶத்ரோ கமலஸ்ய ஶத்ரோ
ஸமஸ்தபா⁴வஜ்ஞ ச பா⁴லசந்த்³ர।
அநாதி³மத்⁴யாந்த ப⁴யப்ரதா³ரின்
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।
விபோ⁴ ஜக³த்³ரூப க³ணேஶ பூ⁴மன்
புஷ்டே꞉ பதே ஆகு²க³தே(அ)திபோ³த⁴।
கர்தஶ்ச பாலஶ்ச து ஸம்ʼஹரேதி
வத³ந்தமேவம்ʼ த்யஜத ப்ரபீ⁴தா꞉।


ಗಣೇಶ ಹೇರಂಬ ಗಜಾನನೇತಿ
ಮಹೋದರ ಸ್ವಾನುಭವಪ್ರಕಾಶಿನ್।
ವರಿಷ್ಠ ಸಿದ್ಧಿಪ್ರಿಯ ಬುದ್ಧಿನಾಥ
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ಅನೇಕವಿಘ್ನಾಂತಕ ವಕ್ರತುಂಡ
ಸ್ವಸಂಜ್ಞವಾಸಿಂಶ್ಚ ಚತುರ್ಭುಜೇತಿ।
ಕವೀಶ ದೇವಾಂತಕನಾಶಕಾರಿನ್
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ಮಹೇಶಸೂನೋ ಗಜದೈತ್ಯಶತ್ರೋ
ವರೇಣ್ಯಸೂನೋ ವಿಕಟ ತ್ರಿನೇತ್ರ।
ಪರೇಶ ಪೃಥ್ವೀಧರ ಏಕದಂತ
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ಪ್ರಮೋದ ಮೇದೇತಿ ನರಾಂತಕಾರೇ
ಷಡೂರ್ಮಿಹಂತರ್ಗಜಕರ್ಣ ಢುಂಢೇ।
ದ್ವಂದ್ವಾಗ್ನಿಸಿಂಧೋ ಸ್ಥಿರಭಾವಕಾರಿನ್
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ವಿನಾಯಕ ಜ್ಞಾನವಿಘಾತಶತ್ರೋ
ಪರಾಶರಸ್ಯಾತ್ಮಜ ವಿಷ್ಣುಪುತ್ರ।
ಅನಾದಿಪೂಜ್ಯಾಖುಗ ಸರ್ವಪೂಜ್ಯ
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ವೈರಿಂಚ್ಯ ಲಂಬೋದರ ಧೂಮ್ರವರ್ಣ
ಮಯೂರಪಾಲೇತಿ ಮಯೂರವಾಹಿನ್।
ಸುರಾಸುರೈಃ ಸೇವಿತಪಾದಪದ್ಮ
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ಕರಿನ್ ಮಹಾಖುಧ್ವಜ ಶೂರ್ಪಕರ್ಣ
ಶಿವಾಜ ಸಿಂಹಸ್ಥ ಅನಂತವಾಹ।
ಜಯೌಘ ವಿಘ್ನೇಶ್ವರ ಶೇಷನಾಭೇ
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ಅಣೋರಣೀಯೋ ಮಹತೋ ಮಹೀಯೋ
ರವೀಶ ಯೋಗೇಶಜ ಜ್ಯೇಷ್ಠರಾಜ।
ನಿಧೀಶ ಮಂತ್ರೇಶ ಚ ಶೇಷಪುತ್ರ
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ವರಪ್ರದಾತರದಿತೇಶ್ಚ ಸೂನೋ
ಪರಾತ್ಪರ ಜ್ಞಾನದ ತಾರಕ್ತ್ರ।
ಗುಹಾಗ್ರಜ ಬ್ರಹ್ಮಪ ಪಾರ್ಶ್ವಪುತ್ರ
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ಸಿಂಧೋಶ್ಚ ಶತ್ರೋ ಪರಶುಪ್ರಪಾಣೇ
ಶಮೀಶಪುಷ್ಪಪ್ರಿಯ ವಿಘ್ನಹಾರಿನ್।
ದೂರ್ವಾಂಕುರೈರರ್ಚಿತ ದೇವದೇವ
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ಧಿಯಃ ಪ್ರದಾತಶ್ಚ ಶಮೀಪ್ರಿಯೇತಿ
ಸುಸಿದ್ಧಿದಾತಶ್ಚ ಸುಶಾಂತಿದಾತಃ।
ಅಮೇಯಮಾಯಾಮಿತವಿಕ್ರಮೇತಿ
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ದ್ವಿಧಾಚತುರ್ಥೀಪ್ರಿಯ ಕಶ್ಯಪಾರ್ಚ್ಯ
ಧನಪ್ರದ ಜ್ಞಾನಪ್ರದಪ್ರಕಾಶ।
ಚಿಂತಾಮಣೇ ಚಿತ್ತವಿಹಾರಕಾರಿನ್
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ಯಮಸ್ಯ ಶತ್ರೋ ಅಭಿಮಾನಶತ್ರೋ
ವಿಧೂದ್ಭವಾರೇ ಕಪಿಲಸ್ಯ ಸೂನೋ।
ವಿದೇಹ ಸ್ವಾನಂದ ಅಯೋಗಯೋಗ
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ಗಣಸ್ಯ ಶತ್ರೋ ಕಮಲಸ್ಯ ಶತ್ರೋ
ಸಮಸ್ತಭಾವಜ್ಞ ಚ ಭಾಲಚಂದ್ರ।
ಅನಾದಿಮಧ್ಯಾಂತ ಭಯಪ್ರದಾರಿನ್
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।
ವಿಭೋ ಜಗದ್ರೂಪ ಗಣೇಶ ಭೂಮನ್
ಪುಷ್ಟೇಃ ಪತೇ ಆಖುಗತೇಽತಿಬೋಧ।
ಕರ್ತಶ್ಚ ಪಾಲಶ್ಚ ತು ಸಂಹರೇತಿ
ವದಂತಮೇವಂ ತ್ಯಜತ ಪ್ರಭೀತಾಃ।


ഗണേശ ഹേരംബ ഗജാനനേതി
മഹോദര സ്വാനുഭവപ്രകാശിൻ।
വരിഷ്ഠ സിദ്ധിപ്രിയ ബുദ്ധിനാഥ
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
അനേകവിഘ്നാന്തക വക്രതുണ്ഡ
സ്വസഞ്ജ്ഞവാസിംശ്ച ചതുർഭുജേതി।
കവീശ ദേവാന്തകനാശകാരിൻ
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
മഹേശസൂനോ ഗജദൈത്യശത്രോ
വരേണ്യസൂനോ വികട ത്രിനേത്ര।
പരേശ പൃഥ്വീധര ഏകദന്ത
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
പ്രമോദ മേദേതി നരാന്തകാരേ
ഷഡൂർമിഹന്തർഗജകർണ ഢുണ്ഢേ।
ദ്വന്ദ്വാഗ്നിസിന്ധോ സ്ഥിരഭാവകാരിൻ
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
വിനായക ജ്ഞാനവിഘാതശത്രോ
പരാശരസ്യാത്മജ വിഷ്ണുപുത്ര।
അനാദിപൂജ്യാഖുഗ സർവപൂജ്യ
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
വൈരിഞ്ച്യ ലംബോദര ധൂമ്രവർണ
മയൂരപാലേതി മയൂരവാഹിൻ।
സുരാസുരൈഃ സേവിതപാദപദ്മ
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
കരിൻ മഹാഖുധ്വജ ശൂർപകർണ
ശിവാജ സിംഹസ്ഥ അനന്തവാഹ।
ജയൗഘ വിഘ്നേശ്വര ശേഷനാഭേ
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
അണോരണീയോ മഹതോ മഹീയോ
രവീശ യോഗേശജ ജ്യേഷ്ഠരാജ।
നിധീശ മന്ത്രേശ ച ശേഷപുത്ര
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
വരപ്രദാതരദിതേശ്ച സൂനോ
പരാത്പര ജ്ഞാനദ താരക്ത്ര।
ഗുഹാഗ്രജ ബ്രഹ്മപ പാർശ്വപുത്ര
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
സിന്ധോശ്ച ശത്രോ പരശുപ്രപാണേ
ശമീശപുഷ്പപ്രിയ വിഘ്നഹാരിൻ।
ദൂർവാങ്കുരൈരർചിത ദേവദേവ
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
ധിയഃ പ്രദാതശ്ച ശമീപ്രിയേതി
സുസിദ്ധിദാതശ്ച സുശാന്തിദാതഃ।
അമേയമായാമിതവിക്രമേതി
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
ദ്വിധാചതുർഥീപ്രിയ കശ്യപാർച്യ
ധനപ്രദ ജ്ഞാനപ്രദപ്രകാശ।
ചിന്താമണേ ചിത്തവിഹാരകാരിൻ
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
യമസ്യ ശത്രോ അഭിമാനശത്രോ
വിധൂദ്ഭവാരേ കപിലസ്യ സൂനോ।
വിദേഹ സ്വാനന്ദ അയോഗയോഗ
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
ഗണസ്യ ശത്രോ കമലസ്യ ശത്രോ
സമസ്തഭാവജ്ഞ ച ഭാലചന്ദ്ര।
അനാദിമധ്യാന്ത ഭയപ്രദാരിൻ
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।
വിഭോ ജഗദ്രൂപ ഗണേശ ഭൂമൻ
പുഷ്ടേഃ പതേ ആഖുഗതേഽതിബോധ।
കർതശ്ച പാലശ്ച തു സംഹരേതി
വദന്തമേവം ത്യജത പ്രഭീതാഃ।


Ganesha heramba gajaananeti
Mahodara svaanubhavaprakaashin.
Varisht'ha siddhipriya buddhinaatha
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Anekavighnaantaka vakratund'a
Svasanjnyavaasimshcha chaturbhujeti.
Kaveesha devaantakanaashakaarin
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Maheshasoono gajadaityashatro
Varenyasoono vikat'a trinetra.
Paresha pri'thveedhara ekadanta
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Pramoda medeti naraantakaare
Shad'oormihantargajakarna d'hund'he.
Dvandvaagnisindho sthirabhaavakaarin
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Vinaayaka jnyaanavighaatashatro
Paraasharasyaatmaja vishnuputra.
Anaadipoojyaakhuga sarvapoojya
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Vairinchya lambodara dhoomravarna
Mayoorapaaleti mayooravaahin.
Suraasuraih' sevitapaadapadma
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Karin mahaakhudhvaja shoorpakarna
Shivaaja simhastha anantavaaha.
Jayaugha vighneshvara sheshanaabhe
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Anoraneeyo mahato maheeyo
Raveesha yogeshaja jyesht'haraaja.
Nidheesha mantresha cha sheshaputra
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Varapradaataraditeshcha soono
Paraatpara jnyaanada taaraktra.
Guhaagraja brahmapa paarshvaputra
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Sindhoshcha shatro parashuprapaane
Shameeshapushpapriya vighnahaarin.
Doorvaankurairarchita devadeva
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Dhiyah' pradaatashcha shameepriyeti
Susiddhidaatashcha sushaantidaatah'.
Ameyamaayaamitavikrameti
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Dvidhaachaturtheepriya kashyapaarchya
Dhanaprada jnyaanapradaprakaasha.
Chintaamane chittavihaarakaarin
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Yamasya shatro abhimaanashatro
Vidhoodbhavaare kapilasya soono.
Videha svaananda ayogayoga
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Ganasya shatro kamalasya shatro
Samastabhaavajnya cha bhaalachandra.
Anaadimadhyaanta bhayapradaarin
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.
Vibho jagadroopa ganesha bhooman
Pusht'eh' pate aakhugate'tibodha.
Kartashcha paalashcha tu samhareti
Vadantamevam tyajata prabheetaah'.

Tags - யமனால் எழுதப்பட்ட விநாயகர் ஸ்தோத்திரம், యమ రాసిన గణేశ స్తోత్రం, ಯಮ ಬರೆದ ಗಣೇಶ ಸ್ತೋತ್ರ, യമൻ എഴുതിയ ഗണേശ സ്തോത്രം

Recommended for you

हिन्दी में अर्थ -

यमराज अपने दूतों से कहते हैं कि इन नामों से जो लोग गणेश जी को पुकारते हैं उन को छोड़ दीजिए । वो लोग मृत्यु के बाद गणेश जी के सन्निधि में ही जाएंगे, यमलोक नहीं आएंगे ।
वे नाम कौम से हैं और उन के अर्थ क्या हैं -
गणेश - गणों के अधिपति।
हेरम्ब - युद्ध में शब्द करने वाले(अपने गम्भीर शब्द से शत्रु को डराने वाले)।
गजानन - हाथी के जैसे मुख वाले।
महोदर - बडे पेट वाले।
स्वानुभवप्रकाशी - अपने ज्ञान को प्रकाश करने वाले।
वरिष्ठ - श्रेष्ठ।
सिद्धिप्रद - सिद्धियों को देने वाले।
बुद्धिनाथ - बुद्धि के अधीश।
अनेकविघ्नान्तक - बहुत से विघ्नों के नाशक।
वक्रतुण्ड - टेढे सूंड वाले।
स्वसंज्ञवासी - आत्म तत्व में रहने वाले।
चतुर्भुज - चार हाथों वाले।
कवीश - कवियों के अधिपति।
देवान्तकनाशकारी - देवान्तक नामक असुर के विनाशी।
महेशसूनु - शिव के पुत्र।
गजदैत्यशत्रु - गजासुर के शत्रु।
वरेण्यसूनु - प्रधान के पुत्र।
विकट - विशाल।
त्रिनेत्र - तीन आंखों वाले।
परेश - परों के ईश।
पृथ्वीधर - भूमि को धारण करने वाले।
एकदन्त - एक दांत वाले।
प्रमोद - परमानंद।
मोद - आनंद।
नरकान्तकारि - नरकान्तक के शत्रु।
षडूर्मिहन्ता - छह प्रकार के ऊर्मियों के हन्ता।
गजकर्ण - हाथी जैसे कान वाले।
ढुण्ढि - भक्तों के द्वारा ढूंढे जाने वाले।
द्वन्द्वाग्निसिन्धु - युद्धों को खत्म करने वाले।
स्थिरभावकारी - स्थिर स्वभाव को देने वाले।
विनायक - विशिष्ट नायक।
ज्ञानविघातशत्रु - ज्ञान के विनाशियों के शत्रु।
पराशरात्मज - पराशर के पुत्र।
विष्णुपुत्र - विष्णु के पुत्र।
अनादिपूज्य - आनादिदेवताओं से भी पूज्य।
आखुग - चूहे पर जाने वाले।
सर्वपूज्य - सभी के द्वारा पूज्य।
वैरिञ्च्य - ब्रह्मा के पुत्र।
लम्बोदर - बडे पेट वाले।
धूम्रवर्ण - धुएं के वर्ण वाले।
मयूरपाल - मोरों के पालक।
मयूरवाही - मोर के वाहन वाले।
सुरासुरसेवितपादपद्म - देव और असुर के द्वारा सेवित।
करी - हाथी जैसे स्वरूप वाले।
महाखुध्वज - मूषक के चिह्न वाले ध्वज वाले।
शूर्पकर्ण - सूप जैसे कान वाले।
शिवाज - पार्वती के पुत्र।
सिंहस्थ - सिंह में बैठे हुए।
अनन्तवाह - अनंत परिणाम वाले।
जयोघ - जय के समूह।
विघ्नेश्वर - विघ्नों के ईश्वर।
शेषनाभि - सांप को नभि में बांधे हुए।
अणोरणीय - सबसे सूक्ष्म।
महतो महीय - सबसे महान।
रवीश - सूर्य के ईश्वर।
योगेशज - योगेश के पुत्र।
ज्येष्ठराज - ज्येष्ठों के राजा।
निधीश - निधियों के अधिपति।
मन्त्रेश - मंत्रों के अधिपति।
शेषपुत्र - शेषनाग के पुत्र।
वरप्रदाता - वर देने वाले।
अदितिसूनु - अदिति के पुत्र।
परात्पर - सर्वश्रेष्ठ।
ज्ञानद - ज्ञान को देने वाले।
तारवक्त्र - चमकते हुए चेहरे वाले।
गुहाग्रज - कार्तिकेय के भाई।
ब्रह्मप - ब्रह्मतत्व के पालक।
पार्श्वपुत्र - शिव जी के पास रहने वाले पुत्र।
सिन्धुशत्रु - सिन्धु के शत्रु।
परशुप्रपाणि - हाथ में परशु को लिए।
शमीश - शमी वृक्ष के ईश।
पुष्पप्रिय - जिन का पुष्प प्रिय है।
विघ्नहारी - विघ्नों का हरण करने वाले।
दूर्वाङ्कुरैरर्चित - दूर्वा से अर्चित।
देवदेव - देवों के देव।
धीप्रदाता - बुद्धि को देने वाले।
शमीप्रिय - शमी वृक्ष प्रिय।
सुसिद्धिदाता - सिद्धि को देने वाले।
सुशान्तिदाता - शान्ति को देने वाले।
अमेयमायामितविक्रम -
द्विधाचतुर्थीप्रिय - कृष्ण और शुक्ल चतुर्थी के प्रिय।
कश्यपार्च्य - कश्यपमुनि द्वारा पूज्य।
धनप्रद - धन को देने वाले।
ज्ञानप्रदप्रकाश - ज्ञान को देने वाले और प्रकाश करने वाले।
चिन्तामणि - परेशानी के समय सब कुछ देने वाले।
चित्तविहारकारी - मन में पहने वाले।
यमशत्रु - यम के शत्रु।
अभिमानशत्रु - अभिमान के शत्रु।
विधूद्भवारि - चन्द्रोदय के शत्रु।
कपिलसूनु - कपिल के पुत्र।
विदेह - शरीर से रहित(निर्गुण स्वरूप)।
स्वानन्द - स्वानंद लोक मे विहरण करने वाले।
अयोगयोग - न जुडे हुए चीजों को जोडने वाले।
गणशत्रु - कामादिओं के शत्रु।
समस्तभावज्ञ - सभी भावों को जानने वाले।
भालचन्द्र - माथे पर चंद्र वाले।
अनादिमध्यान्त - आदि मध्य और अंत से रहित।
भयप्रदारी - भय देने वालों के शत्रु।
विभु - अधीश।
जगद्रूप - जगत इन का ही रूप है।
गणेश - गणों के ईश।
भूमन् - बहुत देने वाले।
पुष्टिपति - पुष्टि के पति।
आखुगति - मूषक के जैसे गति वाले।
अतिबोध - बहुत कुछ सिखाने वाले।
कर्ता - लोक के सृष्टि को करने वाले।
पाल - लोक का पालन करने वाले।
संहर - लोक का संहार करने वाले।

Audios

1

1

Copyright © 2021 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |
Vedahdara - Personalize
Active Visitors:
2445771