Chatushloki Bhagavatam - Sunder Kidambi

Click here to listen


श्रीभगवानुवाच ।

ज्ञानं परमगुह्यं मे यद्विज्ञानसमन्वितम् ।

सरहस्यं तदङ्गं च गृहाण गदितं मया ।।

 

यावानहं यथाभावो यद्रूपगुणकर्मकः ।

तथैव तत्त्वविज्ञानमस्तु ते मदनुग्रहात् ।।

 

अहमेवासमेवाग्रे नान्यद्यत्सदसत्परम् ।

पश्चादहं यदेतच्च योऽवशिष्येत सोऽस्म्यहम् ।।

 

ऋतेऽर्थं यत्प्रतीयेत न प्रतीयेत चात्मनि ।

तद्विद्यादात्मनो मायां यथाऽऽभासो यथा तमः ।।

 

यथा महान्ति भूतानि भूतेषूच्चावचेष्वनु ।

प्रविष्टान्यप्रविष्टानि तथा तेषु न तेष्वहम् ।।

 

एतावदेव जिज्ञास्यं तत्त्वजिज्ञासुनाऽऽत्मनः ।

अन्वयव्यतिरेकाभ्यां यत्स्यात्सर्वत्र सर्वदा ।।

 

एतन्मतं समातिष्ठ परमेण समाधिना ।

भवान्कल्पविकल्पेषु न विमुह्यति कर्हिचित् ।।

 

॥ इति श्रीमद्भागवते महापुराणेऽष्टादशसाहस्र्यां

संहितायां वैयसिक्यां द्वितीयस्कन्धे भगवद्ब्रह्मसंवादे

चतुःश्लोकीभागवतं समाप्तम् ॥


ஶ்ரீப³வானுவாச ।

ஜ்ஞானம் பரமகு³ஹ்யம் மே யத்³விஜ்ஞானஸமன்விதம் ।

ஸரஹஸ்யம் தத³ங்க³ம் ச க்³ருʼஹாண க³தி³தம் மயா ॥ 1

 

யாவானஹம் யதா²பாவோ யத்³ரூபகு³ணகர்மக: ।

ததை²வ தத்த்வவிஜ்ஞானமஸ்து தே மத³னுக்³ரஹாத் ॥ 2

 

அஹமேவாஸமேவாக்³ரே நான்யத்³யத்ஸத³ஸத்பரம் ।

பஶ்சாத³ஹம் யதே³தச்ச யோவஶிஷ்யேத ஸோஸ்ம்யஹம் ॥ 3

 

ருʼதேர்த²ம் யத்ப்ரதீயேத ந ப்ரதீயேத சாத்மனி ।

தத்³வித்³யாதா³த்மனோ மாயாம் யதா²ऽऽபாஸோ யதா² தம: ॥ 4

 

யதா² மஹாந்தி பூதானி பூதேஷூச்சாவசேஷ்வனு ।

ப்ரவிஷ்டான்யப்ரவிஷ்டானி ததா² தேஷு ந தேஷ்வஹம் ॥ 5

 

ஏதாவதே³வ ஜிஜ்ஞாஸ்யம் தத்த்வஜிஜ்ஞாஸுனாऽऽத்மன: ।

அன்வயவ்யதிரேகாப்யாம் யத்ஸ்யாத்ஸர்வத்ர ஸர்வதா³ ॥ 6

 

ஏதன்மதம் ஸமாதிஷ்ட² பரமேண ஸமாதினா ।

வான்கல்பவிகல்பேஷு ந விமுஹ்யதி கர்ஹிசித் ॥ 7

 

॥ இதி ஶ்ரீமத்³பா³வதே மஹாபுராணேஷ்டாத³ஶஸாஹஸ்ர்யாம்

ஸம்ஹிதாயாம் வையஸிக்யாம் த்³விதீயஸ்கந்தே ப³வத்³ப்³ரஹ்மஸம்வாதே³

சது:ஶ்லோகீபா³வதம் ஸமாப்தம் ॥


Share on:

Check out

Audio

Modify Search

Select Category
Select Language
Select Subject | Deity
Select Author | Artist

Modify Search

Select By Name / Title

Copyright © 2018 Vedadhara. ALL RIGHTS RESERVED.
Powered by Claps and Whistles