अक्रूर घाट

akrura gets realization

अक्रूर घाट वह दिव्य स्थान है जहां अक्रूर जी को भगवान श्रीकृष्ण के परमात्मा स्वरूप का दर्शन मिला था।

अक्रूर घाट की महिमा

कंस को पता चला कि कृष्ण वृन्दावन में है।

कृष्ण के हाथों कंस की मृत्यु होनी थी।

उसने कृष्ण को मारने के लिए कई बार राक्षसों को वहां भेजा।

वे सारे असफल हो गये और मारे गये।

फिर उसने एक षड्यंत्र रचा।

कंस के पास भगवान शिव द्वारा दिया गया धनुष था।

शिव जी ने कंस से कहा था कि उस धनुष को तोड़ने वाला ही उसका वध कर सकेगा।

कंस ने एक कार्यक्रम आयोजित किया जिसमें दुनिया भर के योद्धा धनुष को तोड़ने की कोशिश कर सकते थे।

कृष्ण और बलराम को इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया।

वहां उन दोनों को शक्तिशाली पहलवानों का उपयोग करके मारने की योजना थी।

कंस कृष्ण और अक्रूर के परस्पर स्नेह के बारे में जानता था।

उसने अक्रूर को प्रतियोगिता के निमंत्रण के साथ कृष्ण के पास अपना दूत बनाकर भेजा।

उस समय भगवान और उनका परिवार नंदगांव में रह रहे थे।

अक्रूर ने भगवान का दर्शन पाकर अपने आप को कृतार्थ समझा।

अगले दिन कृष्ण और बलराम अक्रूर के रथ में मथुरा के लिए निकले।

रास्ते में वे यमुना नदी के पास रुके।

अक्रूर सन्ध्याकाल का अनुष्ठान करना चाहते थे।

कृष्ण और बलराम रथ में बैठे और अक्रूर नदी की ओर चल पड़े।

अक्रूर ने नदी के जल में आदिशेष (बलराम) पर विराजमान  भगवान की छवि को देखा।

जब उन्होंने पीछे मुड़कर देखा, तो प्रभु रथ पर ही बैठे थे और उन्हें देखकर मुस्कुरा रहे थे।

अक्रूर ने  फिर से नदी की ओर देखा।

भगवान यमुना जी में भी थे।

उस समय अक्रूर को एहसास हुआ कि कृष्ण कोई और नहीं बल्कि सर्वव्यापी परमात्मा हैं।

 

 

Google Map Image

 

22.7K
1.0K

Comments

ksvqn
आपकी वेबसाइट बहुत ही विशिष्ट और ज्ञानवर्धक है। 🌞 -आरव मिश्रा

आपकी वेबसाइट ज्ञान और जानकारी का भंडार है।📒📒 -अभिनव जोशी

सनातन धर्म के भविष्य के प्रति आपकी प्रतिबद्धता अद्भुत है 👍👍 -प्रियांशु

वेदधारा सनातन संस्कृति और सभ्यता की पहचान है जिससे अपनी संस्कृति समझने में मदद मिल रही है सनातन धर्म आगे बढ़ रहा है आपका बहुत बहुत धन्यवाद 🙏 -राकेश नारायण

सनातन धर्म के भविष्य के लिए वेदधारा के नेक कार्य से जुड़कर खुशी महसूस हो रही है -शशांक सिंह

Read more comments

चार्वाक दर्शन में सुख किसको कहते हैं?

चार्वाक दर्शन में सुख शरीरात्मा का एक स्वतंत्र गुण है। दुख के अभाव को चार्वाक दर्शन सुख नहीं मानता है।

यज्ञोपवीत को पेशाब के समय कान पर​ क्यों लपेटा जाता है?

यज्ञोपवीत को पेशाब के समय कान पर​ इसलिए लपेटा जाता है क्योंकि कान को शरीर का सूक्ष्म रूप माना जाता है, जिसमें विभिन्न अंगों और शारीरिक कार्यों से जुड़े बिंदु होते हैं। इस सिद्धांत को ऑरिकुलोथेरेपी कहते हैं, जो वैकल्पिक चिकित्सा का एक रूप है। इस प्रथा के अनुसार, कान के विशेष बिंदु शरीर के विभिन्न हिस्सों, जैसे मूत्राशय से जुड़े होते हैं। ऑरिकुलोथेरेपी में, कान पर एक विशिष्ट बिंदु होता है जिसे मूत्राशय से जुड़ा हुआ माना जाता है और इस बिंदु को उत्तेजित करने से मूत्राशय की कार्यक्षमता में मदद मिलती है। एक्यूप्रेशर की तरह, रिफ्लेक्सोलॉजी में भी कान को उन क्षेत्रों में शामिल किया गया है जहां दबाव बिंदु शरीर के अन्य भागों को प्रभावित कर सकते हैं। मूत्राशय का रिफ्लेक्स बिंदु आमतौर पर कान के निचले हिस्से में स्थित होता है।

Quiz

द्रौपदी का अपहरण किसने किया था ?
Hindi Topics

Hindi Topics

मंदिर

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |