सुदर्शन चक्र मंत्र

सुदर्शन चक्र मंत्र

ॐ क्लीं कृष्णाय गोविन्दाय गोपीजनवल्लभाय पराय परमपुरुषाय परमात्मने परकर्ममन्त्रयन्त्रौषधास्त्रशस्त्राणि संहर संहर मृत्योर्मोचय मोचय ॐ नमो भगवते महासुदर्शनाय दीप्त्रे ज्वालापरीताय सर्वदिक्षोभणकराय हुँ फट् ब्रह्मणे परंज्योतिषे स्वाहा ।

 

 

28.8K

Comments

45qq3
Thank you, Vedadhara, for enriching our lives with timeless wisdom! -Varnika Soni

Remarkable! 👏 -Prateeksha Singh

Thanks preserving and sharing our rich heritage! 👏🏽🌺 -Saurav Garg

जय हो -User_se118q

Thanksl for Vedadhara's incredible work of reviving ancient wisdom! -Ramanujam

Read more comments

रामायण में विभीषण ने रावण का पक्ष छोड़कर राम का साथ क्यों दिया?

रावण के दुष्कर्म , विशेष रूप से सीता के अपहरण के प्रति विभीषण के विरोध और धर्म के प्रति उनकी प्रतिबद्धता ने उन्हें रावण से अलग होकर राम के साथ मित्रता करने के लिए प्रेरित किया। उनका दलबदल नैतिक साहस का कार्य है, जो दिखाता है कि कभी-कभी व्यक्तिगत लागत की परवाह किए बिना गलत काम के खिलाफ खड़ा होना जरूरी है। यह आपको अपने जीवन में नैतिक दुविधाओं का सामना करने पर कठोर निर्णय लेने में मदद करेगा।

भक्ति के बारे में श्री अरबिंदो -

भक्ति बुद्धि का नहीं बल्कि हृदय का विषय है; यह परमात्मा के लिए आत्मा की लालसा है।

Quiz

जब श्री हनुमान जी ने लंका में आग लगाई उसके बाद उनकी पूंछ की जलन से मुक्ति पाने के लिए वे कहां आये थे ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |