संप्रज्ञात और असंप्रज्ञात समाधियों में भेद क्या है?

Meditation at sunset

 

एक बर्तन को लीजिए।

यह कच्चे चावल से भरा है।

पर चावल में छोटे छोटे पत्थर हैं, छिलके हैं, मिट्टी के कण हैं, मरे हुए कीडे पडे हैं।

यह बर्तन मन है।

ये सब रजोगुण और तमोगुण की वृत्तियां हैं।

धीरे धीरे उस में से सब निकाल दिया।

यह अभ्यास है , समय लगता है अभ्यास में।

आखिर में सिर्फ शुद्ध चावल ही रह जाता है।

यह सत्त्व गुण है।

 

आगे जानने के लिए ऊपर दिया हुआ आडियो सुनिए।

94.8K

Comments

btcn7
सनातन धर्म के भविष्य के प्रति आपकी प्रतिबद्धता अद्भुत है 👍👍 -प्रियांशु

बहुत बढिया चेनल है आपका -Keshav Shaw

यह वेबसाइट ज्ञान का अद्वितीय स्रोत है। -रोहन चौधरी

वेद पाठशालाओं और गौशालाओं के लिए आप जो अच्छा काम कर रहे हैं, उसे देखकर बहुत खुशी हुई 🙏🙏🙏 -विजय मिश्रा

आपकी वेबसाइट बहुत ही अनमोल और जानकारीपूर्ण है।💐💐 -आरव मिश्रा

Read more comments

अदिति नाम का अर्थ क्या है?

न दीयते खण्ड्यते बध्यते- स्वतंत्र, जिसे बांधा नहीं जा सकता। अदिति बारह आदित्य और वामनदेव की माता थी। दक्षकन्या अदिति के पति थे कश्यप प्रजापति।

सर्पों की देवी कौन है?

मनसा देवी।

Quiz

यज्ञ क लिये घृत को किस प्रकार शुध्द किया जाता है ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |