Add to Favorites

संप्रज्ञात और असंप्रज्ञात समाधियों में भेद क्या है?

Meditation at sunset

 

एक बर्तन को लीजिए।

यह कच्चे चावल से भरा है।

पर चावल में छोटे छोटे पत्थर हैं, छिलके हैं, मिट्टी के कण हैं, मरे हुए कीडे पडे हैं।

यह बर्तन मन है।

ये सब रजोगुण और तमोगुण की वृत्तियां हैं।

धीरे धीरे उस में से सब निकाल दिया।

यह अभ्यास है , समय लगता है अभ्यास में।

आखिर में सिर्फ शुद्ध चावल ही रह जाता है।

यह सत्त्व गुण है।

 

आगे जानने के लिए ऊपर दिया हुआ आडियो सुनिए।

Copyright © 2023 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |
Vedahdara - Personalize