शैले शैले न माणिक्यम्

शैले शैले न माणिक्यं मौक्तिकं न गजे गजे |
साधवो नहि सर्वत्र चन्दनं न वने वने ||

 

अनमोल वस्तु हर जगह उपलब्ध नहीं होता है| हर पर्वत में माणिक्य नही होता है| हर हाथी के मस्तक में मौक्तिक नहीं होता है| हर वन में चन्दन नहीं होता है और हर स्थान पर अच्छे लोग नहीं होते हैं|

 

37.8K
1.1K

Comments

G5thc
यह वेबसाइट बहुत ही उपयोगी और ज्ञानवर्धक है।🌹 -साक्षी कश्यप

आपकी वेबसाइट बहुत ही विशिष्ट और ज्ञानवर्धक है। 🌞 -आरव मिश्रा

आपकी वेबसाइट बहुत ही अद्भुत और जानकारीपूर्ण है।✨ -अनुष्का शर्मा

यह वेबसाइट अद्वितीय और शिक्षण में सहायक है। -रिया मिश्रा

सनातन धर्म के भविष्य के लिए वेदधारा का योगदान अमूल्य है 🙏 -श्रेयांशु

Read more comments

हयग्रीव किसका अवतार हैं?

हयग्रीव भगवान विष्णु का अवतार हैं ।

गोवत्स द्वादशी कब है?

गोवत्स द्वादशी कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष द्वादशी को मनायी जाती है।

Quiz

जब श्री हनुमान जी ने लंका में आग लगाई उसके बाद उनकी पूंछ की जलन से मुक्ति पाने के लिए वे कहां आये थे ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |