शिवलिंग का रहस्य क्या है?

Listen to audio above

शिवलिंग

 

शिवलिंग की पूजा करने से मोक्ष की प्राप्ति कैसे होती है ?
नाद और बिन्दु, शैव और शाक्त सिद्धान्तों में इस आशय का बहुत ही महत्त्व है।
सृष्टि क्या है?
अनंत के अन्दर परिमित को बनाना, सीमाबद्ध को बनाना।
समुद्र में पानी है।
दो बोतलों में समंदर से ही पानी भरकर उन बोतलों को समंदर में ही डाल दिया।
मैं और आप इन बोतलों के जैसे हैं।
अन्दर एक ही वस्तु पर अस्तित्व अलग - अलग प्रतीत होता है।
उस बोतल की कांच से बनी भित्ति ही एक या दो लीटर पानी को सीमाबद्ध करके उसे व्यष्टि की प्रतीति प्रदान करती है।
सृजन में भी यही होता है।
प्राणियों को त्वचा रूपी भित्तियों से परिमित करना, वस्तुओं को परिमाण से घनफल से परिमित करना, यहि सृजन की प्रक्रिया है।
शब्द में भी देखिए , कंठ में से एक सा नाद ही निकलता है।
गले की पेशियां, जीभ, ओंठ ये सब उसका दमन करते हैं तो वह अक्षरों और शब्दों के रूप में परिणत होता है।
पकार का उच्चार करके देखिए - इसमे ओंठ लगेंगे।
टकार का उच्चार करके देखिए - इसमे ओंठ बन्द नही करना पडता है, जीभ लगता है इसमें।
एक सा नाद को अलग - अलग नालियों में से निकालने से, इस प्रकार उसकी सीमा बांधने से अलग - अलग अक्षर बनते हैं।
प्रलय के बाद ४.३२ अरब साल बीतने के बाद, भोलेनाथ को लगता है कि अब सृजन किया जायें।
तो अपने ही कुछ अंश को भगवान नाद के रूप में परिणत करते हैं।
फिर इस नाद में ही जैसे दही से मक्खन, उस प्रकार बिन्दु घनीभूत होता है।
इस बिन्दु से ही सृष्टि होती है।
नाद है शब्द रूपी ऊर्जा।
बिन्दु है घनीभूत ऊर्जा।
इसमें नाद है शिव।
बिन्दु है शक्ति।
शक्ति शिव का ही अंश है।
पर इस सृश्ट्युन्मुख अवस्था में, शिव से भिन्न भी प्रतीत होती है।
जैसे लहर समंदर से पृथक प्रतीत होती है।
लहर समुद्र का ही भाग है।
फिर भी पृथक प्रतीत होती है।
अर्धनारीश्वर में देखिए, एक ही शरीर है, पर उसी में पुरुष और स्त्री के हिस्से अलग - अलग दिखाई देते हैं।
तो जगत का आधार है बिन्दु।
बिन्दु का आधार है नाद।
सृजन के समय नाद से बिन्दु होती है।
बिन्दु से जगत।
प्रलय के समय जगत अणु परिमाण में होकर बिन्दु मे लय होता है।
बिन्दु का नाद में लय होता है।
जैसे लहर का समुद्र में लय होता है।
शिवलिंग मे नाद और बिन्दु दोनों का समन्वय।
शिवलिंग का ऊपरला हिस्सा शिव है, नाद है।
इसे चारों ओर से परिमित करके शक्ति बिन्दु के रूप पीठ बनी हुई है।
तो शिवलिंग सृष्टि का भी प्रतीक है, संहार का भी प्रतीक है।
इस संहार तत्त्व को समझकर शिव लिंग की पूजा करेंगे तो पुनर्जन्म नहीं होगा।
बिन्दुनादात्मकं सर्वं जगत् स्थवरजंगमम्।
बिन्दुनादात्मकं लिङ्गं जगत्कारणमुच्य्ते।
तस्माज्जन्मनिवृत्यर्थं शिवलिङ्गं प्रपूजयेत्।।

 

50.7K

Comments

bpzGr
आपके शास्त्रों पर शिक्षाएं स्पष्ट और अधिकारिक हैं, गुरुजी -सुधांशु रस्तोगी

आप जो अच्छा काम कर रहे हैं उसे जानकर बहुत खुशी हुई -राजेश कुमार अग्रवाल

आपकी वेबसाइट से बहुत सी महत्वपूर्ण जानकारी मिलती है। -दिशा जोशी

सनातन धर्म के भविष्य के प्रति आपकी प्रतिबद्धता अद्भुत है 👍👍 -प्रियांशु

वेदधारा की धर्मार्थ गतिविधियों में शामिल होने पर सम्मानित महसूस कर रहा हूं - समीर

Read more comments

सूत और शूद्र में क्या अंतर है?

शूद्र चातुर्वर्ण्य व्यवस्था का एक वर्ण है। सूत ब्राह्मण स्त्री में उत्पन्न क्षत्रिय की सन्तान है । वर्ण व्यवस्था के अनुसार सूत का स्थान क्षत्रियों के नीचे और वैश्यों के ऊपर था पेशे से ये पुराण कथावाचक और सारथी होते थे।

अनाहत चक्र को कैसे जागृत करें?

महायोगी गोरखनाथ जी के अनुसार अनाहत चक्र और उसमें स्थित बाणलिंग पर प्रतिदिन ४८०० सांस लेने के समय तक (५ घंटे २० मिनट) ध्यान करने से यह जागृत हो जाता है।

Quiz

सत्यवती किसकी बेटी थी?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |