शत्रु पराजय मंत्र

shatru nashak mantra

हाथ में बसें हनुमान, भैरों बसे लिलार, जो हनुमन्त को टीका करे, मोहे जग संसार जो आवै छाती पाँव धरै, बजरंग बीर रक्षा करें महम्मदा बीर छातीं टोर जुगुनियाँ बीर सिर फोर उगुनिया बीर मार मार भास्वन्त करे भैरों बीर की आन फिरती रहे बजरङ्ग बीर रक्षा करे जो हमारे ऊपर धात डाले, तो पलट हनुमान बीर उसी को मारे जल बाँधे थल बाँधे आर्या आसमान बाँधे कुदवा औ कलवा बाँधे चक चक्की आसमान बाँधे वाचा साहिब, साहिब के पूत धर्म नाती आसरा तुम्हारा है।

 

 

28.0K

Comments

d56ut
वेदधारा के धर्मार्थ कार्यों में समर्थन देने पर बहुत गर्व है 🙏🙏🙏 -रघुवीर यादव

यह मंत्र मेरे लिए चमत्कारिक है ✨ -nitish barkeshiya

वेदधारा के कार्यों से हिंदू धर्म का भविष्य उज्जवल दिखता है -शैलेश बाजपेयी

आपके मंत्रों से बहुत लाभ मिला है। 😊🙏🙏🙏 -मधुबाला

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -User_sdh76o

Read more comments

तिरुपति बालाजी का मंत्र

ॐ श्री वेंकटेशाय नमः

दिव्य चक्षु

सबके अन्दर दिव्य चक्षु विद्यमान है। इस दिव्य चक्षु से ही हम सपनों को देखते हैं। पर जब तक इसका साधना से उन्मीलन न हो जाएं इससे बाहरी दुनिया नहीं देख सकते।

Quiz

वेदाङ्गज्यौतिषम् - इस ग्रन्थ के रचयिता कौन हैं ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |