वायु पुराण

vayu puran first page

देव-वंश वर्णन 

सूत जी बोले - यह पापनाशिनी कथा आप लोगो को अब ज्ञात हो गई। यह दक्ष से सम्बन्ध रखने वाली कथा महादेव से प्राप्त हुई है, जो पितरों के वंश-वर्णन के प्रसंग में कह दी गई है। पितृवंश वर्णन की ही तरह अब आगे हम देव वंश का वर्णन करते हैं ।१-२। 

पहले स्वायम्भुव मनु के अधिकार काल में त्रेता युग के आदि में याम नाम के विख्यात देव थे, जो पहले यज्ञ-तनय थे। उनमें अजित ब्रह्मा के पुत्र थे और जित, जित् तथा अजित स्वायम्भुव के पुत्र थे। ये शुक्र नामक मानस पुत्र कहलाते थे ।३-४। 

देवों के तीन गण कहे गये हैं, जिनमें ये तृप्तिमान् गण कहलाते हैं। स्वायम्भुव मनु के तैंतीस पुत्र छन्दोग कहलाते है । यदु, ययाति नामक दो देव एवं दीधय स्रवस, मति, विभास, ऋतु, प्रजापति, विशत, द्युति, वायस और मङ्गल नामक बारह देव याम कहलाते है।६-६३। 

अभिमन्यु, उग्रदृष्टि, समय, शुचिश्रवा, केवल विश्वरूप, सुयक्ष, ( सुरक्ष ) मधुप, तुरीय, निहर्यु युक्त, ग्रावाजिन, यमी, विश्वेदेवादि, यविष्ठ, मृतवान्, अजिर, विभु, मृलिक, दिदेहक, श्रुतिशृण, वृहच्छक और ऊपर कहे गये बारह देव स्वायम्भुव मन्वन्तर के काल में वर्तमान थे । ये सोम-पीने वाले महाबली और वीर्यशाली थे। ये विषिमान गण के कहलाते थे। विश्वभुक् प्रथम विभु उन लोगों के इन्द्र थे। उस समय जो असुर गण थे, वे भी इनके जाति-भाई थे । सुपर्ण, यक्ष, गन्धर्व, पिशाच, उरग, राक्षस और पितरो के साथ नासत्य ये आठों देवयोनि कहलाते थे। इनके प्रभाव और रूप से संयुक्त एवं आयुष्मान तथा बलवान् सन्ताने हजारों की संख्या में स्वायम्भुव मन्वन्तर में बीत चुके है ।१०-१३। 

उसको विस्तार पूर्वक नहीं कहा जा रहा है, क्योंकि उसका प्रसंग भी यहाँ नहीं है । स्वायम्भुव मनु के काल का सृष्टि विस्तार वर्तमान मनु की ही तरह समझना चाहिये। अतीत मन्वन्तर में प्रजा सृष्टि या स्वभावादि वर्तमान वैवस्वत मनु के काल की ही तरह देखा जाता है। प्रजाओं, देवताओं, ऋषियों और पितरों के साथ पहले जो उनमें सप्तर्षि थे, उनको सुनिये-भृगु, अंगिरा, मरीचि, पुलस्त्य, पुलह, ऋतु, अनि और वसिष्ठ ।१४-१६३। 

स्वायम्भुव मन्वन्तर में अग्नीध्र, अतिबाहु, मेधा, मेधातिथि, वसु, ज्योतिष्मान्, द्युतिमान्, हव्य और सवन आदि ये महाबलशाली दस पुत्र स्वायम्भु मनु के थे । वायु ने कहा है कि, प्रथम मन्वन्तर में ये ही महा बलशाली राजा थे ।१७-१५३। 

आगे पढने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

 

 

40.2K
1.3K

Comments

q3dwm
மிகவும் பயனுள்ள இணையதளம் 😊 -ஆதி

பயன்படுத்த ஏற்ற இணையதளம் -லலிதா

மகிழ்ச்சியளிக்கும் வலைத்தளம் 😊 -பாஸ்கரன்

அழகான வலைத்தளம் 🌺 -அனந்தன்

மிகச்சிறந்த இணையதளம் -லோகநாதன்

Read more comments

ஜம்பு முனிவரின் கதை

திருவானைக்கோயிலில் உள்ள ஜம்புகேஸ்வரர் கோவிலின் தொடக்கக் கதையோடு இணைக்கப்பட்டுள்ளது. இது பஞ்ச சபைகளில் ஒன்றாகும். கதையின் படி, சிவன், கைலாய மலை உச்சியில் ஆழ்ந்த தியானத்தில் இருந்தபோது, பார்வதியால் கேலி செய்யப்பட்டார். இதனால் கோபித்த சிவன், பார்வதியை, ஒரு புனிதமான இடத்தில் தன்னை வழிபடவும் பூமிக்கு அனுப்பினார். பார்வதி காவேரி ஆற்றின் கரைகளில் நாவல் மரங்களின் காட்டைக் கண்டுபிடித்தார். தன்னுடைய தெய்வீக சக்தியைப் பயன்படுத்தி, தன்னுடைய வழிபாட்டுக்காக தண்ணீரில் இருந்து ஒரு சிவ லிங்கத்தை உருவாக்கினார். இந்தக் காட்டில், முனிவர் ஜம்பு தவம் செய்து கொண்டிருந்தார். ஒரு நாளில், அவர் சிவனுக்கு ஒரு பழுத்து சுவையான நாவல் பழத்தை அர்ப்பணித்தார். சிவன் பழத்தைத் சாப்பிட்டு, விதையை உமிழ்ந்தார், இதனை முனிவர் தெய்வத்தின் பரிசாக ஏற்றுக்கொண்டு விழுங்கினார். ஆச்சரியமாக, விதை அவரது உடலில் ஒரு மரமாக மாறத் துடங்கியது. சிவன், முனிவர் ஜம்புவை நாவல் மரங்களின் காட்டில் வாழ உத்தரவிட்டார் மற்றும் பார்வதி, அகிலாண்டேஸ்வரி வடிவில், அங்கு லிங்கத்தை வழிபடுவார் எனக் கூறினார். முனிவர் ஜம்பு திருவானைக்கோவிலுக்கு இடம் மாறினார். அங்கு நாவல் விதை அவரது தலைவில் இருந்து முளைத்து, பெரிய மரமாக வளர்ந்தது. இந்த மரத்தின் கீழ் அகிலாண்டேஸ்வரி லிங்கத்தை வழிபட்டார். இதனால் ஜம்புகேஸ்வரர் கோவிலின் புனித இடம் நிலைநிறுத்தப்பட்டது.

பெண் ரிஷி எவ்வாறு அழைக்கப்பட்டனர்?

பெண் ரிஷி ரிஷிகா என்று அழைக்கப்பட்டனர்.

Quiz

இந்துஸ்தானி சங்கீதத்தில் எந்த ராகம் சிசிர ருதுவில் அதிக பலனுள்ளது?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |