वामन पुराण

vaman puran first page

पुलस्त्य जी बोले - तत्पश्चात् भीरुओं के लिये भय बढ़ानेवाला समर आरम्भ हो गया।हजार नेत्रोंवाले इन्द्र अपने विशाल धनुष को लेकर बाणों की वर्षा करने लगे। अन्धक भी अपने दीप्तिमान् धनुष को लेकर बड़े वेग से मयूरपंख लगे बाणों को इन्द्र पर छोड़ने लगा। वे दोनों एक-दूसरे को झुके हुए पर्वोंवाले स्वर्णपंखयुक्त तथा महावेगवान् तीक्ष्ण बाणों से आहत कर दिये। फिर इन्द्र ने क्रुद्ध होकर वज्र को अपने हाथ से घुमाकर उसे अन्धक के ऊपर फेंका। नारदजी! अंधक ने उसे आते देखा। उसने बाणों, अस्त्रों और शस्त्रों से उसपर प्रहार किया; पर अग्नि जिस प्रकार वनों, पर्वतों या वृक्षों को भस्म कर देती है, उसी प्रकार उस वज्र ने उन सभी अस्त्रों को भस्म कर डाला॥१-५॥

तब बलवानों में श्रेष्ठ अन्धक अति वेगवान् वज्र को आते देखकर रथ से कूदकर बाहुबल का आश्रय लेकर पृथ्वी पर खड़ा हो गया। वह वज्र, सारथि, अश्व, ध्वजा एवं कूबर के साथ रथ को भस्म कर इन्द्र के पास पहुंच गया। उस वज्र को वेगपूर्वक आते देख बलवान् अन्धक ने मुष्टि से मारकर उसे भूमिपर गिरा दिया और गर्जन करने लगा।

आगे पढने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

 

 

55.3K

Comments

6i3w3
वेदधारा की समाज के प्रति सेवा सराहनीय है 🌟🙏🙏 - दीपांश पाल

यह वेबसाइट बहुत ही रोचक और जानकारी से भरपूर है।🙏🙏 -समीर यादव

यह वेबसाइट ज्ञान का अद्वितीय स्रोत है। -रोहन चौधरी

शास्त्रों पर गुरुजी का मार्गदर्शन गहरा और अधिकारिक है 🙏 -Ayush Gautam

आपकी वेबसाइट बहुत ही अनोखी और ज्ञानवर्धक है। 🌈 -श्वेता वर्मा

Read more comments

सांपों को विष कहां से मिला ?

श्रीमद्भागवत के अनुसार, जब भगवान शिव समुद्र मंथन के दौरान निकले हालाहल विष को पी रहे थे, तो उनके हाथ से थोड़ा सा छलक गया। यह सांपों, अन्य जीवों और जहरीली वनस्पतियों में जहर बन गया।

वेङ्कटेश सुप्रभातम् के रचयिता कौन है?

श्रीवेङ्कटेश सुप्रभातम् के रचयिता हैं प्रतिवादि भयंकरं अण्णन्।

Quiz

वाल्मीकि रामायण किस छंद में है ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |