कृशे कस्यास्ति सौहृदम्

वनानि दहतो वह्नेः सखा भवति मारुतः |
स एव दीपनाशाय कृशे कस्यास्ति सौहृदम् ||

 

जब आग एक जंगल को जलाता है तो हवा उस का दोस्त बनकर आग का साथ देता है| पर जब वह ही आग एक छोटे से दीप में होता है तो वह ही वायु आकर उस आग को बुझा देता है| छोटे लोगों से भला कौन ही दोस्ती करना चाहेगा?

 

96.6K

Comments

ktfxf

कलयुग कितना बाकी है?

कलयुग की कुल अवधि है ४,३२,००० साल। वर्तमान कलयुग ई.पू.३,१०२ में शुरू हुआ था और सन् ४,२८,८९९ में समाप्त होगा।

काँगड़ा घाटी के सुप्रसिद्ध ७ देवी मंदिर कौन कौन से हैं?

नैना देवी मंदिर, ज्वालामुखी, चिंतपूर्णी, बज्रेश्वरी देवी मंदिर, चामुण्डा मंदिर, मनसा देवी मंदिर, जयंती देवी मंदिर।

Quiz

उत्तर प्रदेश में शृंगी ऋषि के मंदिर किस इलाके में स्थित हैं ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |