Description

इस प्रवचन से जानिए योग में दृढता को कैसे पाया जाएं

चित्त को निस्तरङ्ग बनाना है। जैसे समुद्र मे जब लहरें नहीं होती ऐसी अवस्था। इसे योग की भाषा में स्थिति कहते हैं। क्या इस अवस्था में वृत्तियों का १००% अभाव है? नहीं। सात्त्विक वृत्तियां रहती हैं। ....


चित्त को निस्तरङ्ग बनाना है।

जैसे समुद्र मे जब लहरें नहीं होती ऐसी अवस्था।

इसे योग की भाषा में स्थिति कहते हैं।

क्या इस अवस्था में वृत्तियों का १००% अभाव है?

नहीं।

सात्त्विक वृत्तियां रहती हैं।

राजसिक और तामसिक वृत्तियां नही रहती हैं।

इस अवस्था में स्थिति की अवस्था में-

श्रुत्वा स्पृष्ट्वा च दृष्ट्वा च भुक्त्वा घ्रात्वा शुभाशुभम्।

न हृष्यति ग्लायति च शान्त इति कथ्यते॥

अच्छा सुनोगे, पर खुशी नहीं आएगी।

बुरा सुनोगे, दुख नही आएगा।

अच्छे को देखोगे, खुशी नही आएगी।

बुरे को देखोगे, दुख नही आएगा।

स्वादिष्ट भोजन करोगे, खुशी नही आएगी।

नीरस भोजन करोगे, कोई फरक नही पडेगा।

खुशबू न अच्छी लगेगी, बदबू न बुरी लगेगी।

मुलायम बिस्तर पर सोओ या पत्थर के ऊपर, चित्त पर इसका कोई असर नही पडेगा।

क्यों की सुख और दुख चित्त में उठनेवाली राजसिक और तामसिक लहरें हैं।

इनका अभाव परम शान्ति की अवस्था है।

जो सात्त्विक है।

क्या यह अवस्था सहज रूप से आ सकती है?

नहीं।

इसके लिए प्रयास करना पडता है।

योग शास्त्र में इस अवस्था, इस स्थिति की अवस्था को पाने के लिए साधन दिये गये हैं।

इन साधनों द्वारा निरन्तर अभ्यास करने से, अभ्यास करने से ही यह अवस्था पाई जा सकती है।

कुछ समय के लिए मन की शान्ति किसी में भी आ सकती है।

पर अगर दृढतावाली शान्ति चाहिए तो इसके लिए प्रयास करना पडेगा।

अभ्यास करना पडेगा।

इस अभ्यास को नियमित रूप से प्रतिदिन करना है।

दीर्घ काल तक करना है।

इसके लिए साधनों के बारे में ज्ञान की आवश्यकता है।

इसे करने से मुझे उसका फल मिलेगा ऐसी श्रद्धा होना जरूरी है।

तपस्या और ब्रह्मचर्य जरूरी है।

सही ज्ञान अर्जित करके, श्रद्धा के साथ, ब्रह्मचर्य का पालन करके, एक तपस्या के रूप में प्रतिदिन दीर्घ काल तक योग के साधनों का अभ्यास
करोगे तो दृढतावाली शान्ति मिल सकती है।

यह शान्ति कभी भी बाहरी विषयों पर आश्रित नहीं हो सकती।

क्यों कि बाहरी विषय हमारे अधीन में नहीं हैं।

सिर्फ हमारा मन ही हमारा अधीन हो सकता है।

पीडाओं के अभाव में जो शान्ति महसूस होती है, यह शाश्वत नहीं है।

पीडा आने पर वह तुरन्त चली जाएगी।

पीडा रहे या न रहे , शान्ति सदा रहेगी, इस अवस्था को पाना है।

इसके लिए सुख और दुख दोनों से ही मन में जो हर्ष और शोक की लहरें उठती हैं, दोनों से ही मन को निवृत्त करना पडेगा।

तभी यह हो पाएगा।

जिस चित्त में खुशी की लहरें उठती हैं, उस में दुख की लहरें भी अवश्य ही उठेंगी।

यह अभ्यास जो है उसे उत्साह के साथ करना है।

केवल एक दिनचर्या के रूप में नहीं।

ज्ञान के साथ, ज्ञान का अर्थ है साधनों के बारे में सही जानकारी, श्रद्धा के साथ, ब्रह्मचर्य का पालन करके, एक तपस्या के रूप में, उत्साह के
साथ, प्रति दिन, दीर्घ काल तक करोगे तो ही शान्ति की दृढता में बल रहेगा।

इसके द्वारा समाधि की भी अवधि बढती है।

इच्छानुसा्र समाधि में जाना और उससे बाहर आना संभव हो जाता है।

समाधि की गुणवत्ता बढती है।

समझिए यह शन्ति समाधि की अवस्था नहीं है।

समाधि की अवस्था में सत्त्व का भी अभाव है।

यह शान्ति लौकिक व्यवहारों में प्रवृत्त रहते समय की है।

Audios

1

1

Copyright © 2021 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |
Vedahdara - Personalize
Active Visitors:
2461902