मानव स्वभाव की जटिलता

62.6K

Comments

28s7h

हैहय वंश क्या है?

हैहय साम्राज्य मध्य और पश्चिमी भारत में चंद्रवंशी (यादव) राजाओं द्वारा शासित राज्यों में से एक था। हैहय राजाओं में सबसे प्रमुख कार्तवीर्य अर्जुन थे, जिन्होंने रावण को भी हराया था। इनकी राजधानी माहिष्मती थी। परशुराम ने उनका सर्वनाश कर दिया।

शिव और शक्ति के बीच क्या संबंध है?

शिव और शक्ति एक ही सिक्के के दो पहलू जैसे हैं। जैसे चन्द्रमा के बिना चांदनी नहीं, चांदनी के बिना चन्द्रमा नहीं; शिव के बिना शक्ति नहीं और शक्ति के बिना शिव नहीं।

Quiz

शकुनि का जन्मस्थान ?

मानव स्वभाव हमेशा अच्छा और बुरा दोनों का मिश्रण होता है। इसका अपवाद श्रीराम जी और भगवान श्री कृष्ण जैसे अवतार और कुछ महान ऋषि हैं। लेकिन आप इनकी सामान्य मनुष्यों के साथ बराबरी नहीं कर सकते। निरंतर प्रयास बुराई को कम कर....

मानव स्वभाव हमेशा अच्छा और बुरा दोनों का मिश्रण होता है।
इसका अपवाद श्रीराम जी और भगवान श्री कृष्ण जैसे अवतार और कुछ महान ऋषि हैं।
लेकिन आप इनकी सामान्य मनुष्यों के साथ बराबरी नहीं कर सकते।

निरंतर प्रयास बुराई को कम करने और अच्छाई को विकसित करने का होना चाहिए।
यही मानव जन्म का उद्देश्य है - अपनीआत्मा का उद्धार करना।
मानव क यह मिश्रित स्वभाव शुरू से ही काफी स्पष्ट है।
आइए महाभारत के पात्र पुरूरवा और नहुष के बारे में देखते हैं।
दोनों ही पाण्डवों और कौरवों के पूर्वज थे।
वैवस्वत मनु हमारे वर्तमान मन्वंतर में सभी मनुष्यों के आदिपुरुष थे।
उनके ६० क्षत्रिय पुत्र थे।
वे सब आपस में लडकर नष्ट हो गए।
तब पुरूरवा का जन्म इला और बुध ग्रह के पुत्र के रूप में हुआ था।
जिस तरह से महाभारत पुरूरवा का वर्णन करता है, मिश्रित मानव स्वभाव स्पष्ट है।

त्रयोदश समुद्रस्य द्वीपानश्नन् पुरूरवाः -
समस्त महासागरों के १३ द्वीपों पर पुरूरवा का शासन था, जिसका अर्थ है कि वे पूरी पृथ्वी पर शासन करते थे।
अमानुषैः वृतः सत्त्वैः मानुषः सन् पुरूरवाः -
वे मनुष्य होकर भी यक्षों और गंधर्वों जैसे अलौकिक प्राणियों से घिरे हुए थे और सेवित थे।
उन्होंने गंधर्व लोक से तीन प्रकार की अग्नि को पृथ्वी पर लाया।

लेकिन फिर उनमें क्या खराबी थी?
विप्रैः सह विग्रहं चक्रे वीर्योन्मत्तः पुरूरवाः - अपनी शक्ति से उन्मत्त पुरूरवा कुलीन और विद्वान तपस्वियों को परेशान किया।
जहार च स विप्राणां रत्नान्युत्क्रोशतामपि - पुरूरवा ने उनको लूटा।
इसलिए नहीं कि उसे उनके धन की ज़रूरत थी, सिर्फ अपनी ताकत दिखाने के लिए।

सनतकुमार ब्रह्मलोक से आये और पुरूरवा इस अत्याचार को छोडने की सलाह देने की कोशिश की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।
फिर अंत में, ऋषियों को उससे छुटकारा पाने के लिए उसे शाप देना पड़ा।

नहुष पुरूरवा का पोता था।
नहुष इतना महान थे कि वे थोड़ी देर के लिए स्वर्ग लोक के शासक - इंद्र - भी बन गये।
कहा जाता है कि उन्घोंने धरम के अनुसार ही शासन किया था।
उन्होंने मनुष्यों के अलावा देवों, ऋषियों, पितरों, गंधर्वों, नागों और राक्षसों पर शासन किया।
राज्यं शशास सुमहद् धर्मेण पृथिवीपते।
पितॄन देवान् ऋषीन् विप्रान् गन्धर्वोरगराक्षसान्॥
उन्होंने लुटेरों और डकैतों को नष्ट कर दिया लेकिन उन्होंने ऋषियों पर भी कर लगाया।
ऋषीन् करमदापयत्
पशुवच्चैव तान् पृष्ठे वाहयामास वीर्यवान्
नहुष ऋषियों से अपनी पालकी का वहन कराता था. इतना ही उसका अहंकार था।
एक बार अपनी पालकी ले जाते समय, नहुष ने ऋषि अगस्त्य को लात मारी और तेजी से आगे बढ़ने के लिए उन पर चिल्लाया।
अगस्त्य ने उसे शाप दिया।
वह एक सांप बन गया जो पृथ्वी पर गिर पडा।

यह क्या दिखाता है?
आपको जानबूझकर अच्छे गुणों को विकसित करना होगा।
लेकिन बुरी प्रकृति अपने आप आती है विशेष रूप से शक्ति और प्रतिष्ठा के साथ।
यह न केवल व्यक्ति में अच्छाई को नष्ट करता है बल्कि उसके पतन का कारण भी बनता है।
हमें इस बारे में हमेशा सतर्क रहना होगा।

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |