भीष्म पितामह ने अपना जीवन कैसे समाप्त किया: अंतिम क्षण

सीखें कि ५८ दिनों तक तीरों की शैय्या पर रहने के बाद भीष्म पितामह की महान आत्मा किस प्रकार दिव्यता में विलीन हो गई।

भीष्म पितामह ने अपना जीवन कैसे समाप्त किया: अंतिम क्षण

भीष्म पितामह कुरुक्षेत्र के युद्ध में एक अनन्य योद्धा थे। वे दसवें दिन, कई तीरों से घायल होकर गिरे। वे ५८ दिनों तक तीरों की शैय्या पर लेटे रहे। इस समय के दौरान, वे अपने शरीर को छोड़ने के सही क्षण की प्रतीक्षा कर रहे थे।

भीष्म पितामह से तीरों की शैय्या पर कौन मिलने आया?

भीष्म से मिलने कई महत्वपूर्ण लोग आए, जब वे तीरों की शैय्या पर लेटे थे। इनमें से सबसे महत्वपूर्ण भगवान कृष्ण थे, जो अर्जुन के साथ आए थे। अन्य पांडवों ने भी उनसे मुलाकात की। कई ज्ञानी पुरुष और ऋषि भी आए। इनमें पर्वत मुनि, नारद, महर्षि धौम्य और व्यास शामिल थे। वे सभी भीष्म का सम्मान करते थे और देह छोडते समय उनके साथ रहना चाहते थे।

भीष्म पितामह ने युधिष्ठिर से क्या कहा?

युधिष्ठिर, जो सबसे बड़े पांडव थे, भीष्म से मिलने आए। भीष्म ने उन्हें ज्ञान और स्नेह से बात की। उन्होंने कहा, 'युधिष्ठिर, तुमने कई कठिनाइयों का सामना किया है, हालांकि तुमने हमेशा सही काम किया है और भगवान कृष्ण के प्रति समर्पित रहे हो। तुम्हारा परिवार बहुत कष्ट झेल चुका है, लेकिन याद रखो, सब कुछ भगवान की योजना के अनुसार होता है। जब चीजें अनुचित लगें, तब भी उनकी इच्छा पर विश्वास करो। तुम्हें अपने राज्य को बुद्धिमानी से शासित करना चाहिए और अपने लोगों की देखभाल करनी चाहिए।'

भीष्म का भगवान कृष्ण के बारे में क्या दृष्टिकोण था?

भीष्म का भगवान कृष्ण के प्रति बहुत आदर था। उन्होंने कहा, 'भगवान कृष्ण सर्वोच्च शक्ति हैं और हर चीज का कारण हैं। वे दिव्य लीलाएँ करते हैं, जिन्हें समझना कठिन है। महान ऋषियों को भी उनके मार्ग रहस्यमय लगते हैं। हालांकि वे सरल दिखते हैं, वे बहुत शक्तिशाली और दयालु हैं। मुझे अब उन्हें देखने का आशीर्वाद प्राप्त हो रहा है। जो भक्त उनके बारे में सोचते हैं, वे सभी इच्छाओं से मुक्त हो जाते हैं। उनकी कृपा अद्भुत है।'

भीष्म पितामह ने कृष्ण के प्रति अपनी भक्ति कैसे प्रकट की?

भीष्म भगवान कृष्ण के प्रति गहरी भक्ति रखते थे। उन्होंने कहा, 'मेरी मृत्यु के समय मेरा मन शुद्ध है। मैं अपनी प्रेम भगवान कृष्ण को अर्पित करता हूँ, जो सदैव आनंदित रहते हैं और अपनी लीलाओं को पूरा करने के लिए भौतिक शरीर धारण करते हैं। मैं उनके तमाल वृक्ष जैसे रंग और उनके सुनहरे वस्त्र को याद करता हूँ। जब उन्होंने अर्जुन को युद्ध में मार्गदर्शन दिया और यहां तक कि अपने वचन को तोड़ा (हथियार न उठाने का) उनकी रक्षा करने के लिए, तब की उनकी दयालुता को मैं याद करता हूँ। मैं इस भगवान कृष्ण को समर्पित हूँ। उनके कार्य और मुस्कान ने सभी को मोहित कर लिया था। अब, जब मैं इस लोक​ को छोड़ रहा हूँ, मुझे उन्हें सामने पाकर​ शांति मिल रही है। मेरा प्रेम और भक्ति केवल उनके लिए है।'

भीष्म पितामह ने अपना जीवन कैसे समाप्त किया?

उत्तरायण का समय आ गया था। यह वह समय है जब सूर्य अपनी उत्तर दिशा की ओर यात्रा शुरू करता है, जो उन लोगों द्वारा प्रतीक्षित होता है जो अपनी मृत्यु को नियंत्रित कर सकते हैं। भीष्म ने अपनी दृष्टि भगवान कृष्ण पर केंद्रित की, जो उनके सामने खड़े थे। कृष्ण की उपस्थिति ने भीष्म को शांति दी। दर्द गायब हो गया, और भीष्म शांत हो गए।

भीष्म ने अपना मन, वाणी और दृष्टि भगवान कृष्ण को समर्पित कर दी। जब उन्होंने अपना शरीर छोड़ा, तो वे अनंत ब्रह्म में विलीन हो गए (कृष्ण में)। वहाँ उपस्थित सभी लोग मौन हो गए, सम्मान प्रकट करते हुए। देवता भीष्म के महान जीवन का उत्सव मनाने लगे। युधिष्ठिर ने अंतिम संस्कार किए। बाद में, ऋषियों ने भगवान कृष्ण के नाम का जाप किया और अपने आश्रमों में लौट गए। युधिष्ठिर, कृष्ण के साथ, हस्तिनापुर लौट आए। उन्होंने अपने चाचा और चाची को सांत्वना दी और अपने राज्य को न्यायपूर्वक शासित करना शुरू किया।

 

भीष्म द्वारा सर्वोच्च भगवान की योजना के रूप में कष्ट को स्वीकार करना हमें दिव्य योजनाओं में विश्वास रखने की शिक्षा देता है। इससे कठिन समय में शांति मिल सकती है, चिंता कम हो सकती है, और आत्मसमर्पण की भावना बढ़ सकती है।

दिव्य योजनाओं में विश्वास: स्वीकार करें कि सब कुछ एक कारण से होता है।

भक्ति: मार्गदर्शन के लिए उच्च शक्ति के प्रति समर्पित रहें।

कर्तव्य: अपने कर्तव्यों को निभाएं, चाहे कितनी भी कठिनाइयाँ क्यों न हों।

जब हम​ एक उच्च शक्ति में विश्वास रखते हैं और अपने कर्तव्यों को पूरा करते हैं, तो समाज अधिक सामंजस्यपूर्ण हो जाता है। कष्ट को एक दिव्य योजना के हिस्से के रूप में समझना सहानुभूति और करुणा को बढ़ावा देता है, संघर्षों को कम करता है और एक सहायक समुदाय का निर्माण करता है।

 

76.8K
13.8K

Comments

fqdxb
भीष्म पितामह की आत्मा की दिव्यता में विलीन होने की कहानी अद्वितीय है। उनकी महानता और धैर्य से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है। 🙏 -User_sfeyu1

सही मार्ग पर चलने वाला सच्चा योद्धा अंततः दिव्यता को प्राप्त करता है। 🌟✨ -Rahul

ज्ञानवर्धक -Rakesh

वेदधारा के कार्य से हमारी संस्कृति सुरक्षित है -मृणाल सेठ

वेदधारा समाज की बहुत बड़ी सेवा कर रही है 🌈 -वन्दना शर्मा

Read more comments

Knowledge Bank

सर्पों की देवी कौन है?

मनसा देवी।

व्यास जी को वेद व्यास क्यों कहते हैं?

क्यों कि उन्होंने ही वेद को चार भागों में विभाजित किया।

Quiz

लद्दाख से कौन सी पुण्य नदी बहती है ?
Add to Favorites

Other languages: English

Hindi Topics

Hindi Topics

महाभारत

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |