भगवान इन्द्रियों से परे हैं

26.2K
1.1K

Comments

7seqk
शास्त्रों पर स्पष्ट और अधिकारिक शिक्षाओं के लिए गुरुजी को हार्दिक धन्यवाद -दिवाकर

वेदधारा की सेवा समाज के लिए अद्वितीय है 🙏 -योगेश प्रजापति

वेदधारा के साथ ऐसे नेक काम का समर्थन करने पर गर्व है - अंकुश सैनी

आपकी वेबसाइट बहुत ही अद्भुत और जानकारीपूर्ण है। -आदित्य सिंह

सनातन धर्म के भविष्य के लिए वेदधारा का योगदान अमूल्य है 🙏 -श्रेयांशु

Read more comments

भगवान का ज्ञान इन्द्रियों के द्वारा नहीं मिलता। जानिए कैसे भगवान इन्द्रियों से परे हैं। 

Knowledge Bank

विनय पत्रिका का मूल भाव क्या है?

विनय पत्रिका का मूल भाव भक्ति है। विनय पत्रिका देवी देवताओं के २७९ पदों का एक संग्रह है। ये सब रामभक्ति बढाने की प्रार्थनायें हैं।

शिव से पहले कौन था?

शिव पुराण के अनुसार शिव से पहले कोई नहीं था। शिव ही परब्रह्म हैं जिनसे जगत की उत्पत्ति हुई।

Quiz

पृथ्वी से संबंधित रंग कौन सा है ?

अगला श्लोक है नारायणं नमस्कृत्य नरं चैव नरोत्तमम्। देवीं सरस्वतीं व्यासं ततो जयमुदीरयेत्॥ इस श्लोक का महत्व और अर्थ हम पहले ही ही देख चुके हैं। अगला श्लोक, पहले स्कंध के दूसरे अध्याय का पाँचवाँ श्लोक, मुनयः साधु पृ....

अगला श्लोक है
नारायणं नमस्कृत्य नरं चैव नरोत्तमम्।
देवीं सरस्वतीं व्यासं ततो जयमुदीरयेत्॥
इस श्लोक का महत्व और अर्थ हम पहले ही ही देख चुके हैं।
अगला श्लोक, पहले स्कंध के दूसरे अध्याय का पाँचवाँ श्लोक,
मुनयः साधु पृष्टोऽहं भवद्भिर्लोकमङ्गलम्।
यत्कृतः कृष्णसंप्रश्नो येनाऽऽत्मा सुप्रसीदति॥
सूत जी कहते हैं: मैं बहुत खुश हूं कि आपने मुझसे ये छह प्रश्न पूछा।
सूत एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाते हैं जहाँ लोग यज्ञ जैसे आध्यात्मिक कार्यों के लिए एकत्रित होते हैं।
फिर वे उन्हें कहानियाँ सुनाते हैं, जो वे सुनना चाहते हैं।
कहीं वे देवी के बारे में सुनना चाहते हैं, कहीं शिव के बारे में।
इन्हें वे बताते हैं।
यहां ऋषि-मुनि कृष्ण के बारे में सवाल पूछ रहे हैं।
सूत बहुत खुश हैं।
क्योंकि कृष्ण सभी प्रश्नों के अंतिम उत्तर हैं।
अन्य सभी प्रश्नों के उत्तर कृष्ण के बारे में प्रश्न की ओर ले जाते हैं।
जब अन्य सभी प्रश्नों का उत्तर यथा संभव तरीके से दिया गया हो तब भी जब वास्तविक उत्तर प्राप्त नहीं हुआ हो, तब कृष्ण के बारे में प्रश्न आता है।
अगर कृष्ण के बारे में सवालों का जवाब दिया जाए तो हर चीज का जवाब अपने आप में हो ही गया
तो ये छह प्रश्न संपूर्ण विश्व के परम कल्याण के लिए हैं।
अन्य प्रश्नों के मामले में, उत्तर आपको संतुष्टि प्रदान कर सकते हैं।
यहां प्रश्न ही स्वयं संतुष्टि, आनंद लाते हैं।
सूत जी खुश हैं कि अब वे वही बताने वाले हैं जिसके बारे में वे हमेशा बताना चाहते हैं, लेकिन किसी ने उनसे अब तक नहीं पूछा।
उनका पसंदीदा विषय।
इसे लेकर वे उत्साहित हैं।
जिस क्षण प्रश्न पूछे गये, भगवान कृष्ण आकर सूत जी के मन में प्रवेश करके उसे भर दिये।
सूत जी प्रभु की उपस्थिति और उस आनंद को महसूस कर सकते हैं।
अगले सत्रह श्लोक इस श्लोक में वर्णित बातों का विस्तार ही हैं।
आप किसी भी तरह की साधना करते हैं क्योंकि भगवान ने आपको आशीर्वाद दिया है।
उनके आशीर्वाद के बिना आपको पता भी नहीं चलेगा कि साधना नाम की कोई चीज होती है, अध्यात्म नाम की कोई चीज होती है।
अभी साधना शुरू ही हुई है।
इस पथ के अंत में भगवान का साक्षात्कार है, भगवान में विलीन होना है, भगवान के साथ एक होना है, जो है उनका सबसे बड़ा आशीर्वाद, परम आशीर्वाद।
आपकी प्रगति के हर चरण में आपको उनका आशीर्वाद थोड़ा थोड़ा मिलता रहता है।
उनका आशीर्वाद ही आपको आगे बढ़ाता है।
यह ऐसा है जैसे आप एक लंबी यात्रा पर जा रहे हैं।
आप अपनी कार का टैंक भरेंगे।
हर कुछ सौ किलोमीटर पर आपको अपना टैंक फिर से भरना होगा।
आप पेट्रोल पंप पर जाएंगे और अपना टैंक फिर से भरेंगे।
तभी आप आगे बढ़ पाते हैं।
आपकी साधना के प्रत्येक चरण में, भगवान आपको थोड़ा सा और आशीर्वाद देते हैं।
फिर अंत में वे आपको सबसे बड़ा आशीर्वाद देंगे, सायुज्य के रूप में।
भागवत के मार्ग में तीन मुख्य चरण हैं।
रुचि का विकास।
श्रवण, भजन, कीर्तन।
फिर भगवान के लिए प्रेम विकसित होना
जैसे-जैसे आप आगे बढेंगे, ज्ञान के भी तीन चरण होते हैं जिन्हें आप प्राप्त करते जाएंगे।
सबसे पहले, आत्मज्ञान, आपको पता चल जाएगा कि आप कौन हैं।
उसके बाद तत्त्वज्ञान, आपको पता चलेगा कि ब्रह्मांड क्या है।
उसके बाद आपको भगवान के बारे में ज्ञान होगा।
आपकी प्रगति में सहायक दो साधन हैं: धर्म और वैराग्य।
धर्म क्या है?
यही प्रश्न युधिष्ठिर ने भीष्म से पूछा था।
को धर्मः सर्वधर्माणां भवतः परमो मतः?
सभी धर्मों में सबसे बड़ा कौन सा है?
धर्म क्या है?
ध्रियते पुण्यात्मभिः
धरति लोकान्
महान लोग जिसका आचरण करते हैं वह धर्म है।
अच्छे लोग जो आचरण करते हैं, उसी से दुनिया चलती है।
हमारे पास बैंकिंग सिस्टम है।
यह किस पर आधारित है?
सत्य और विश्वास पर।
अगर बैंक ईमानदार नहीं हैं, तो क्या आप अपना पैसा वहां रखेंगे?
आप एक लाख रुपये बैंक में जमा करते हैं, जब आप वापस जाते हैं तो वे कहते हैं कि हम नहीं जानते, तो?
बैंकिंग सिस्टम ईमानदारी के आधार पर बनी हुई है।
और देखिए बैंकिंग सिस्टम अर्थव्यवस्था के लिए क्या करती है।
क्या एक अच्छी बैंकिंग सिस्टम के बिना अर्थव्यवस्था प्रगती कर सकती है?
इसी तरह अहिंसा पर आधारित है सेना, कि निर्दोष लोगों को कोई हानि न पहुंचाए, उनकी हमेशा रक्षा की जाए।
ऐसी हर प्रणाली के मूल में एक सिद्धांत है जो महान है।
इनका इनका आचरण श्रेषठ लोगों द्वारा किया जाता है।
दुनिया काम करती है क्योंकि सिस्टम इन महान सिद्धांतों के आधार पर बनाए गए हैं।
यदि धोखाधड़ी एक आदर्श है तो क्या कोई बाजार काम कर पाएगा?
क्या कोई बाजार भरोसे के बिना टिक सकता है?
इसलिए यदि आप चाहते हैं कि कुछ भी लंबे समय तक चले और फले-फूले, तो वह एक महान सिद्धांत पर आधारित होना चाहिए जिसे धर्म कहते हैं।
स वै पुंसां परो धर्मो यतो भक्तिरधोक्षजे।
अहैतुक्यमप्रतिहता ययाऽऽत्मा सुप्रसीदति॥
धर्म का पालन करना, सदाचारी होना मार्ग है और भक्ति उसका लक्ष्य है।
उल्टा नहीं।
भक्ति होगी तो आचरण अच्छा होगा, ऐसा नहीं है।
अगर आपके कर्म नेक हैं, अगर आप नेक हैं, तो आपको भक्ति मिलेगी।
रोजाना नहाकर अपने शरीर को साफ रखना एक अच्छी आदत है, एक नेक आदत है।
क्या प्रतिदिन स्नान करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को भक्ति प्राप्त होती है?
कोई जरूरी नहीं।
अच्छी आदतें अंततः भक्ति की ओर ले जा सकती हैं।
अच्छी आदतें परिणाम की ओर ले जाती हैं, बीच में कुछ और जो परिणाम बीच में होता है वह भक्ति की ओर ले जाता है।
ऐसा हो भी सकता है और नहीं भी हो सकता है।
भगवान की कथा सुनोगे तो भक्ति अवश्य आएगी, इसमें कोई विकल्प नहीं हैं।
यही सामान्य धर्म और भागवत द्वारा निर्धारित मार्ग के बीच का अंतर है।
इस श्लोक में भगवान को अधोक्षज कहा गया है।
अधोक्षज का अर्थ है।
अधः अक्षजं ज्ञानं यस्मात्
इन्द्रियों से प्राप्त ज्ञान भगवान् से हीन है।
इंद्रियों से प्राप्त ज्ञान से भगवान को नहीं जाना जा सकता।
इन्द्रियों में जो रुचि हो सकती है, वे सभी आनंद के साधन हैं।
इन्द्रिय सदैव सुख की खोज में रहती हैं।
आप किसी ऐसी चीज को सूंघना पसंद नहीं करते जिससे बदबू आती हो।
आप किसी ऐसी चीज का स्वाद नहीं लेना चाहते जिसका स्वाद अच्छा न हो।
इन्द्रिय केवल उन उत्तेजनाओं में रुचि रखती हैं जो सुखद हैं।
इंद्रियों से भगवान में रुचि नहीं पैदा होती है।
भगवान इन्द्रियों से परे है।
भगवान पर रुचि यह आप में एक आशीर्वाद के रूप में आना है।
इसलिए यह अहैतुक्य है।
कोई सांसारिक कारण नहीं है जो आपको भगवान में रुचि दे सके।
और यह रुचि जब वरदान के रूप में आती है तो वह अप्रतिहत है।
यह कभी बाधित नहीं होता है, यह कभी जाता नहीं है, यह कभी कम नहीं होता है।
यह रुचि ही धर्म है।
इससे भक्ति होती है।
इससे सुख की प्राप्ति होती है।

Hindi Topics

Hindi Topics

भागवत

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |