ब्रह्मचर्य की शक्ति - एक दृष्टान्त​

67.2K

Comments

pd8du

यमुनोत्री जाने से पहले क्या मुझे कुछ और जानना चाहिए?

यमुनोत्री की यात्रा करते समय स्थानीय रीति-रिवाजों और परंपराओं का सम्मान करना महत्वपूर्ण है। यह सलाह दी जाती है कि आप यात्रा के दौरान मदिरा या अमांसीय आहार का सेवन न करें। यह भी सुझाव दिया जाता है कि आप कुछ नकदी साथ लें, क्योंकि दूरस्थ क्षेत्रों में एटीएम या कार्ड भुगतान सुविधाएँ उपलब्ध नहीं हो सकती हैं। अंत में, हमेशा स्थानीय प्राधिकारियों द्वारा दिए गए निर्देशों और दिशानिर्देशों का पालन करें, जिससे आपको सुरक्षित और पूर्णता से यात्रा का आनंद मिले।

चूहा भगाने का मंत्र क्या है?

पीत पीतांबर मूसा गाँधी ले जावहु हनुमन्त तु बाँधी ए हनुमन्त लङ्का के राउ एहि कोणे पैसेहु एहि कोणे जाहु। मंत्र को सिद्ध करने के लिए किसी शुभ समय पर १०८ बार जपें और १०८ आहुतियों का हवन करें। जब प्रयोग करना हो, स्नान करके इस मंत्र को २१ बार पढें। फिर पाँच गाँठ हल्दी और अक्षता हाथ में लेकर पाँच बार मंत्र पढकर फूंकें और उस स्थान पर छिडक दें जहां चूहे का उपद्रव हो।

Quiz

श्रीमन्महाप्रभु चैतन्य देव का जन्म का नाम क्या था ?

ब्रह्मचर्य का पालन करना एक कठिन तप है, लेकिन जो लोग इसे निभाते हैं, उन्हें आशीर्वाद और शाप देने की शक्ति प्राप्त होती है। महाभारत से कच और देवयानी की कहानी इसका एक उदाहरण है। देवताओं और असुरों के बीच अक्सर युद्ध होते रहते थे। ....

ब्रह्मचर्य का पालन करना एक कठिन तप है, लेकिन जो लोग इसे निभाते हैं, उन्हें आशीर्वाद और शाप देने की शक्ति प्राप्त होती है। महाभारत से कच और देवयानी की कहानी इसका एक उदाहरण है।

देवताओं और असुरों के बीच अक्सर युद्ध होते रहते थे। असुरों के गुरु शुक्राचार्य थे और देवताओं के गुरु बृहस्पति थे। शुक्राचार्य संजीवनी विद्या जानते थे, जिससे वे मृतकों को पुनर्जीवित कर सकते थे। युद्ध में मारे गए असुरों को शुक्राचार्य पुनर्जीवित कर देते थे। इससे देवता निराश थे क्योंकि बृहस्पति संजीवनी विद्या नहीं जानते थे।

कच बृहस्पति का पुत्र था, जो बहुत ही चतुर और सुंदर था। देवों ने कच से अनुरोध किया कि वह शुक्राचार्य का शिष्य बनकर उनसे संजीवनी विद्या सीखे। कच शुक्राचार्य के पास गया। भले ही शुक्राचार्य और बृहस्पति के बीच सब कुछ ठीक नहीं था, लेकिन वह कच की विनम्रता और व्यवहार देखकर उसे शिष्य के रूप में लेने के लिए सहमत हो गए।

कच पाँच साल तक शुक्राचार्य के आश्रम में रहा, ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए शुक्राचार्य से शास्त्र सीखा। देवयानी शुक्राचार्य की पुत्री थी, जो बहुत सुंदर थी। वह कच की मदद करती थी, लेकिन कभी भी उसकी ब्रह्मचर्य की प्रतिज्ञा में बाधा नहीं डालती थी। वह स्वयं भी ब्रह्मचर्य का पालन करती थी।

इसी बीच, असुरों को पता चला कि बृहस्पति का पुत्र शुक्राचार्य के पास संजीवनी विद्या सीख रहा है। वे अनुमान लगा रहे थे कि यह संजीवनी विद्या सीखने का एकमात्र उद्देश्य होगा।

एक बार जब कच जंगल में अपने गुरु की गायों को चरा रहा था, असुरों ने कच को मार डाला। शुक्राचार्य ने उसे पुनर्जीवित कर दिया। असुरों ने उसे एक बार फिर मार डाला और शुक्राचार्य ने उसे फिर से पुनर्जीवित कर दिया। शुक्राचार्य को असुरों का यह व्यवहार पसंद नहीं आया। उन्होंने कच को संजीवनी विद्या सिखा दी।

कच ने अपनी पढ़ाई पूरी की, अपना ब्रह्मचर्य व्रत समाप्त कर लिया और आश्रम छोड़ने के लिए तैयार हो गया। उस समय देवयानी ने उससे विवाह करने का प्रस्ताव रखा।

कच ने मना कर दिया, उसने कहा- "तुम मेरे गुरु की बेटी हो, तुम मेरी बहन की तरह हो।" देवयानी ने कहा- "नहीं ऐसा कोई रिश्ता नहीं है। तुम सिर्फ मेरे पिता के गुरु के एक और शिष्य के पोते हो, तुम मेरे भाई नहीं हो।" कच अपनी बात पर अड़ा रहा।

देवयानी ने कच को शाप दे दिया- "मेरे पिता ने तुम्हें जो संजीवनी विद्या सिखाई है, वह तुम्हारे काम नहीं आएगी।" कच ने कहा- "कोई बात नहीं, मैं इसे किसी और को सिखा दूँगा और उसके द्वारा काम करा लूँगा।"

कच ने यह भी कहा- "मैं बदले में आपको शाप नहीं दूँगा, लेकिन आपको अपने पति के रूप में किसी भी ऋषि का बेटा नहीं मिलेगा।"

कहानी यहीं खत्म होती है। यह कहानी महाभारत का हिस्सा क्यों है? क्योंकि देवयानी ने बाद में पांडवों और कौरवों के पूर्वज ययाति से विवाह किया।

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |