पाञ्चजन्य

Panchajanya

 

कृष्ण के शंख का क्या नाम है?

पाञ्चजन्य।

कृष्ण को पाञ्चजन्य  कैसे मिला?

पञ्चजन नामक एक असुर ने कृष्ण के गुरु के पुत्र को खा लिया था। कृष्ण ने उसे मार डाला और उसका पेट को चीर दिया, पर वह बालक वहां नहीं था। कृष्ण बालक को यमलोक से वापस ले आए। पञ्चजन की हड्डियां पाञ्चजन्य  नामक शंख में बदल गईं, जिसे कृष्ण ने अपने लिए ले लिया। पञ्चजनस्य अंगप्रभवम् पाञ्चजन्यम् (भागवत.१०.५४)

क्यों विशिष्ट है पाञ्चजन्य ?

कृष्ण के शंख पाञ्चजन्य को शंखों का राजा शंखराज कहा जाता है। यह शंखों में सबसे महान है। यह गाय के दूध के समान सफेद और पूर्णिमा के समान तेज है। पाञ्चजन्य  सोने के जाल से ढका हुआ है और कीमती रत्नों से सजाया हुआ है।

पाञ्चजन्य फूंकने से क्या होता है?

पाञ्चजन्य  की आवाज बहुत तेज और भयानक है। इसका स्वर सप्तस्वरों में ऋषभ है। जब कृष्ण पाञ्चजन्य फूंकते थे तो स्वर्ग और पाताल सहित सभी लोकों में इसकी ध्वनि गूंज उठती थी। पाञ्चजन्य  की गड़गड़ाहट जैसी आवाज पहाड़ों से प्रतिध्वनित करती थी।  जब कृष्ण पाञ्चजन्य  फूंकते थे तो उनकी तरफ के लोग ऊर्जा से भर उठते थे। शत्रु हताश होकर हार के डर से जमीन पर गिर जाते थे। युद्ध के मैदान में घोड़े और हाथी डर के मारे गोबर और मूत्र त्याग देते थे।

कृष्ण ने कितनी बार पाञ्चजन्य फूंका?

१. जब पांडव और कौरव कुरुक्षेत्र पहुंचे। 

२. जब उनकी सेनाएं आमने सामने गईं। 

३. हर दिन लड़ाई की शुरुआत में।

 ४. जब अर्जुन ने भीष्म से लड़ने की कसम खाई। 

५. जब अर्जुन अन्य पांडवों से युद्ध कर रहे भीष्म की ओर दौड़े। 

६. जब अर्जुन ने जयद्रथ को मारने की कसम खाई। 

७. जयद्रथ के साथ अर्जुन की लड़ाई के दौरान कई बार। 

८.जब अर्जुन ने संशप्तकों का वध किया जो युद्ध से कभी पीछे नहीं हटते थे।

 ९. जब कर्ण मारा गया। 

१०. जब दुर्योधन मारा गया। 

११. शाल्व के साथ अपनी लड़ाई के दौरान तीन बार। 1२. जब जरासंध ने मथुरा को घेर लिया।

क्या कृष्ण ने पाञ्चजन्य को एक संकेत के रूप में इस्तेमाल किया था?

हाँ। जयद्रथ के साथ अर्जुन की लड़ाई से पहले, कृष्ण ने अपने सारथी से कहा कि अगर वह युद्ध के दौरान पाञ्चजन्य  को फूंकते हैं तो इसका अर्थ होगा कि अर्जुन संकट में है। फिर उसे कृष्ण का अपना रथ चलाकर युद्ध के मैदान में आना होगा ताकि वे खुद लड सकें और जयद्रथ को मार सकें।

अन्य लोगों ने पाञ्चजन्य के फूंकने की व्याख्या कैसे की है?

द्रोण ने एक बार पाञ्चजन्य  के फूंकने की व्याख्या इस संकेत के रूप में की थी कि अर्जुन अब भीष्म पर हमला करने वाला है। युधिष्ठिर ने एक बार पाञ्चजन्य की ध्वनि की व्याख्या इस संकेत के रूप में की थी कि अर्जुन संकट में है। एक अन्य अवसर पर, युधिष्ठिर ने  सोचा कि अर्जुन की मृत्यु हो गई है और कृष्ण ने युद्ध को अपने हाथों में ले लिया है।

 

90.0K
1.2K

Comments

Gui8h
प्रणाम गुरूजी 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -प्रभास

वेदधारा को हिंदू धर्म के भविष्य के प्रयासों में देखकर बहुत खुशी हुई -सुभाष यशपाल

Om namo Bhagwate Vasudevay Om -Alka Singh

आपकी मेहनत से सनातन धर्म आगे बढ़ रहा है -प्रसून चौरसिया

वेदधारा के कार्य से हमारी संस्कृति सुरक्षित है -मृणाल सेठ

Read more comments

हैदराबाद के पास कौन सा ज्योतिर्लिंग है?

हैदराबाद से २१५ कि.मी. दूरी पर श्रीशैल पर्वत पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग स्थित है।

कर्ण का असली पिता कौन था?

कर्ण का असली पिता थे सूर्यदेव। माता थी कुंती। अधिरथ - राधा दंपती ने कर्ण को पाल पोसकर बडा किया।

Quiz

भक्तमाल के रचयिता कौन हैं ?
Hindi Topics

Hindi Topics

विभिन्न विषय

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |