परोपकारार्थमिदं शरीरम्

परोपकाराय फलन्ति वृक्षाः परोपकाराय वहन्ति नद्यः|
परोपकाराय दुहन्ति गावः परोपकारार्थमिदं शरीरम्|

 

परोपकार - दूसरों की सहायता करना|
दूसरों की सहायता करने के लिए ही वृक्ष फल देते हैं| दूसरों की सहायता करने के लिए ही नदियां बहती हैं| दूसरों की सहायता करने के लिए ही गाय दूध देती है| हमारा यह शरीर भी दूसरों की सहायता करने के लिए ही है|

 

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |