पंचाक्षरी मंत्र की सिद्धि कैसे पायें

36.0K
1.4K

Comments

yi82x
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -User_sdh76o

आपका हिंदू शास्त्रों पर ज्ञान प्रेरणादायक है, बहुत धन्यवाद 🙏 -यश दीक्षित

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -मदन शर्मा

यह वेबसाइट ज्ञान का अद्वितीय स्रोत है। -रोहन चौधरी

वेदधारा के साथ ऐसे नेक काम का समर्थन करने पर गर्व है - अंकुश सैनी

Read more comments

Knowledge Bank

निर्माल्य उतारने की विधि

चढ़े हुए फूल को अँगूठे और तर्जनी की सहायता से उतारे।

राजा पृथु और पृथ्वी का दोहन

पुराणों के अनुसार, पृथ्वी ने एक समय पर सभी फसलों को अपने अंदर खींच लिया था, जिससे भोजन की कमी हो गई। राजा पृथु ने पृथ्वी से फसलें लौटाने की विनती की, लेकिन पृथ्वी ने इनकार कर दिया। इससे क्रोधित होकर पृथु ने धनुष उठाया और पृथ्वी का पीछा किया। अंततः पृथ्वी एक गाय के रूप में बदल गई और भागने लगी। पृथु के आग्रह पर, पृथ्वी ने समर्पण कर दिया और उन्हें कहा कि वे उसका दोहन करके सभी फसलों को बाहर निकाल लें। इस कथा में राजा पृथु को एक आदर्श राजा के रूप में दर्शाया गया है, जो अपनी प्रजा की भलाई के लिए संघर्ष करता है। यह कथा राजा के न्याय, दृढ़ता, और जनता की सेवा के महत्व को उजागर करती है। यह कथा मुख्य रूप से विष्णु पुराण, भागवत पुराण, और अन्य पौराणिक ग्रंथों में उल्लेखित है, जहाँ पृथु की दृढ़ता और कर्तव्यपरायणता को दर्शाया गया है।

Quiz

चारों दिशाओं में भगवान शिव के मन्दिर होने के कारण यह शहर नाथ नगरी नाम से भी जाना जाता है । कौन सा है यह शहर ?

पंचाक्षर मंत्र की साधना कैसे करें? शिव पुराण में इसके बारे में क्या बताया है, देखते हैं। शिव पुराण इसे जपयोग भी कहता है। साधना शुरू करने से पहले तीन चीजें आवश्यक हैं। एक- दीक्षा, दीक्षा किसी योग्य गुरु से प्राप्त....

पंचाक्षर मंत्र की साधना कैसे करें?

शिव पुराण में इसके बारे में क्या बताया है, देखते हैं।
शिव पुराण इसे जपयोग भी कहता है।

साधना शुरू करने से पहले तीन चीजें आवश्यक हैं।

एक- दीक्षा, दीक्षा किसी योग्य गुरु से प्राप्त करनी चाहिए।
दो- दीक्षा प्राप्त करने के बाद मंत्र के दस संस्कार करें।
तीन- पंचाक्षर मंत्र का न्यास सीखें

अगला कदम मंत्र सिद्धि को प्राप्त करना।
सिद्धि प्राप्त करने के बाद आप किसी भी मनोकामना के लिए मंत्र का प्रयोग कर सकते हैं।

मंत्र सिद्धि प्रदान करने वाली प्रक्रिया है पुरश्चरण।

पंचाक्षर मंत्र के लिए शिव पुराण में निर्धारित पुरश्चरण मंत्र शास्त्र में निर्धारित सामान्य पुरश्चरण विधि से कुछ भिन्न है।

हम पहले देख चुके हैं कि जिसको दीक्षा नहीं मिली हो या जो मंत्र संस्कार और न्यास नहीं जानता हो, उसके लिए पंचाक्षर मंत्र शिवाय नमः है।
नमः शिवाय नहीं।

नमः शिवाय गंभीर साधकों के लिए है।

तीव्र साधकों को जैसे जो पुरश्चरण जैसी तपस्या करते हैं उन्हें नमः शिवाय से पहले ॐकार भी जोडने का अधिकार है।

इस स्तर पर ही आप नमः शिवाय का जाप कर सकते हैं।

नहीं तो, शिवाय नमः।

पुरश्चरण शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से प्रारंभ होना चाहिए।

पंचाक्षर मंत्र के पुरश्चरण के लिए माघ और भाद्रपद के मास विशेष रूप से शुभ होते हैं।

शुक्ल पक्ष प्रतिपदा से शुरू होकर अगले कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी पर पुरश्चरण समाप्त होता है. कुल २९ दिन।

इस अवधि में आपको पंचाक्षर मंत्र का ५ लाख बार जाप करना है।

पुरश्चरण के समय आपको दिन में केवल एक बार ही भोजन करना चाहिए।
अनावश्यक बातचीत से बचना चाहिए।
शरीर को सुख देने वाली या मनोरंजन करने वाली किसी भी गतिविधि में शामिल नहीं होना चाहिए।

जब आप जाप करते हैं, तो आपको अपना मन भगवान शिव के एक निश्चित रूप पर एकाग्र रखना है।

भगवान कमल पर विराजमान हैं।
गंगा और अर्धचंद्र उनके सिर को सुशोभित करते हैं।

उनके बाएं ऊपरी हाथ में एक हिरण है जिसे उन्होंने उसके पिछले पैरों से पकड़ रखा है।
दाहिने ऊपरी हाथ में परशु है।
निचला बायां हाथ में वरद मुद्रा है।
निचला दाहिना हाथ में अभय मुद्रा है।

उनकी बायीं जांघ पर देवी पार्वती विराजमान हैं।
भगवान के गण उनके चारों ओर हैं।

जाप शुरू करने से पहले आपको भगवान के इस स्वरूप ध्यान करके मानस पूजा करनी चाहिए।

यह ध्यान अपने हृदय में या सूर्य मंडल में कर सकते हैं।

कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी अर्थात २९वें दिन, इस समय तक ५ लाख मंत्र जाप पूरे हो चुके होंगे, उस दिन १२,००० बार और जाप करना होगा।

पुरश्चरण का समापन गुरु और उनकी पत्नी की उपस्थिति में ही किया जाना चाहिए।

उस दिन उन दोनों की सांब शिव और देवी पार्वती के रूप में पूजा होती है।

इसके अतिरिक्त पांच कुलीन शिव भक्त ब्राह्मणों को आमंत्रित करके उनकी पूजा ईशान, तत्पुरुष, अघोर, सद्योजात और वामदेव के रूप में की जाती है।

इस सबके समक्ष में शिव पूजा करनी चाहिए।

भूरी गाय के घी से पंचाक्षर मंत्र से हवन होता है।

आहुति ११, १०१ या १,००१।
उत्तम पक्ष में १,००१ आहुतियां।

विधि के अनुसार पूजा और होम किया जाना चाहिए।

इसके बाद साधक को गुरु के और पांचों ब्राह्मणों के चरण धोकर उस जल से स्नान करना चाहिए.

यह चरणोदक सभी ३६ करोड़ तीर्थों के पवित्र जल के समान शक्तिशाली है।

गुरु, उनकी पत्नी और ब्राह्मणों को रुद्राक्ष और वस्त्र अर्पित करना चाहिए।

उन्हें स्वादिष्ट भोजन देना चाहिए।
दूध से बनी खीर इस भोजन में होना चाहिए।
बलिदान के बाद सामूहिक अन्नदान भी करें।

यह है पंचाक्षर मंत्र का पुरश्चरण।

ऐसा करने पर पंचाक्षर मंत्र भगवान की कृपा से सिद्ध हो जाता है।
इसके बाद आप पंचाक्षर मंत्र का प्रयोग किसी भी चीज के लिए कर सकते हैं, मोक्ष प्राप्ति के लिए भी।

Hindi Topics

Hindi Topics

शिव पुराण

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |