न संरोहति वाक् क्षतम्

संरोहत्यग्निना दग्धं वनं परशुना हतम् |
वाचा दुरुक्तं बीभत्सं न संरोहति वाक् क्षतम् ||

 

आग से जला हुआ या कुल्हाडी से कटा हुआ वन भी कभी न कभी वापस उगकर पहले जैसे बन सकता है | पर अगर हम ने अपने शब्दों से किसी को एक बार नीचा दिखाया तो फिर हमारी वाणी वापस पहले जैसे नहीं हो सकती | इसलिए किसी को नीचा दिखाना नहीं चाहिए | एक बार वाक् का मूल्य गिर गया तो वह कभी नहीं बढेगा |

 

25.5K
3.3K

Comments

h7p6e
यह वेबसाइट बहुत ही शिक्षाप्रद और विशेष है। -विक्रांत वर्मा

वेदधारा हिंदू धर्म के भविष्य के लिए जो काम कर रहे हैं वह प्रेरणादायक है 🙏🙏 -साहिल पाठक

आपकी वेबसाइट ज्ञान और जानकारी का भंडार है।📒📒 -अभिनव जोशी

वेदधारा से जुड़ना एक आशीर्वाद रहा है। मेरा जीवन अधिक सकारात्मक और संतुष्ट है। -Sahana

आपकी वेबसाइट बहुत ही मूल्यवान जानकारी देती है। -यशवंत पटेल

Read more comments

Knowledge Bank

धन्वन्तरि जयन्ती

धन्वन्तरि जयन्ती धनतेरस को ही मनाया जाता है।

संत हमें क्या सिखाते हैं?

संत हमें नि:स्वार्थ, कामना रहित, पवित्र, अभिमान रहित, और सरल जीवन जीना सिखाते हैं। वे हमें ईश्वर में विश्वास के साथ, सत्य और धर्म का आचरण करके, सबसे प्रेम की भावना रखकर, श्रद्धा, क्षमा, मैत्री, दया, करुणा, और प्रसन्नता के साथ आगे बढने की प्रेरणा देते हैं।

Quiz

महालय श्राद्ध किसको कहते हैं ?
Hindi Topics

Hindi Topics

सुभाषित

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |