Special - Vidya Ganapathy Homa - 26, July, 2024

Seek blessings from Vidya Ganapathy for academic excellence, retention, creative inspiration, focus, and spiritual enlightenment.

Click here to participate

नारद पुराण

Narada

श्रीसनक जी बोले-ब्रह्मन्! सुनिये। मैं अत्यन्त दुर्गम यमलोक के मार्ग का वर्णन करता हूँ। वह पुण्यात्माओं के लिये सुखद और पापियोंके लिये भयदायक है। मुनीश्वर! प्राचीन ज्ञानी पुरुषों ने यमलोकके मार्ग का विस्तार छियासी हजार योजन बताया है। जो मनुष्य यहाँ दान करनेवाले होते हैं, वे उस मार्ग में सुखसे जाते हैं; और जो धर्म से हीन हैं, वे अत्यन्त पीड़ित होकर बड़े दुःख से यात्रा करते हैं। पापी मनुष्य उस मार्गपर दीनभाव से जोर-जोर से रोते-चिल्लाते जाते हैं-वे अत्यन्त भयभीत और नंगे होते हैं। उनके कण्ठ, ओठ और तालु सूख जाते हैं। यमराज के दूत चाबुक आदि से तथा अनेक प्रकार के आयुधों से उन पर आघात करते रहते हैं। और वे इधर-उधर भागते

हुए बड़े कष्ट से उस पथ पर चल पाते हैं। वहाँ कहीं कीचड़ है, कहीं जलती हुई आग है, कहीं तपायी हुई बालू बिछी है, कहीं तीखी धारवाली शिलाएँ हैं। कहीं काँटेदार वृक्ष हैं और कहीं ऐसे-ऐसे पहाड़ हैं, जिनकी शिलाओं पर चढ़ना अत्यन्त दुःखदायक होता है। कहीं काँटों की बहुत बड़ी बाड़ लगी हुई है, कहीं-कहीं कन्दरा में प्रवेश करना पड़ता है। उस मार्ग में कहीं कंकड़ हैं, कहीं ढेले हैं और कहीं सुई के समान काँटे बिछे हैं तथा कहीं बाघ गरजते रहते हैं। नारदजी! इस प्रकार पापी नुष्य-भाँति-भाँति के क्लेश उठाते हुए यात्रा करते हैं। कोई पाश में बँधे होते हैं, कोई अंकुशों से खींचे जाते हैं और किन्हीं की पीठ पर अस्त्र-शस्त्रों की मार पड़ती रहती है। इस दुर्दशा के साथ पापी उस मार्ग पर जाते हैं। किन्हीं की नाक छेदकर उस में नकेल डाल दी जाती है और उसी को पकड़कर खींचा जाता है। कोई आँतों से बँधे रहते हैं और कुछ पापी अपने शिश्न के अग्रभाग से लोहे का भारी भार ढोते हुए यात्रा करते हैं। 

आगे पढने के लिये यहां क्लिक करें

 

 

 

 

34.1K

Comments

k5eye
इस परोपकारी कार्य में वेदधारा का समर्थन करते हुए खुशी हो रही है -Ramandeep

वेदधारा को हिंदू धर्म के भविष्य के प्रयासों में देखकर बहुत खुशी हुई -सुभाष यशपाल

आप जो अच्छा काम कर रहे हैं उसे जानकर बहुत खुशी हुई -राजेश कुमार अग्रवाल

आपकी वेबसाइट बहुत ही अनोखी और ज्ञानवर्धक है। 🌈 -श्वेता वर्मा

गुरुजी की शास्त्रों पर अधिकारिकता उल्लेखनीय है, धन्यवाद 🌟 -Tanya Sharma

Read more comments

Knowledge Bank

गणेश का अर्थ

संस्कृत में गण का अर्थ है समूह और ईश का अर्थ है प्रभु। गणेश का अर्थ है समूहों के स्वामी। वैदिक दर्शन में सब कुछ समूहों में विद्यमान है। उदाहरण के लिए: ११ रुद्र, १२ आदित्य, ७ समुद्र, ५ संवेदी अंग, ४ वेद, १४ लोक आदि। गणेश ऐसे सभी समूहों के स्वामी हैं जिसका अर्थ है कि वह हर वस्तु और प्राणी के स्वामी हैं।

अनाहत चक्र जागरण के फायदे और लक्षण क्या हैं?

शिव संहिता के अनुसार अनाहत चक्र को जागृत करने से साधक को अपूर्व ज्ञान उत्पन्न होता है, अप्सराएं तक उस पर मोहित हो जाती हैं, त्रिकालदर्शी बन जाता है, बहुत दूर का शब्द भी सुनाई देता है, बहुत दूर की सूक्ष्म वस्तु भी दिखाई देती है, आकाश से जाने की क्षमता मिलती है, योगिनी और देवता दिखाई देते हैं, खेचरी और भूचरी मुद्राएं सिद्ध हो जाती हैं। उसे अमरत्व प्राप्त होता है। ये हैं अनाहत चक्र जागरण के लाभ और लक्षण।

Quiz

किन वृक्षों की ऒट लेकर श्रीरामजी ने बाली को मारा था ?
Hindi Topics

Hindi Topics

आध्यात्मिक ग्रन्थ

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |