नहि कृतमुपकारं साधवो विस्मरन्ति

प्रथमवयसि पीतं तोयमल्पं स्मरन्तः
शिरसि निहितभारा नारिकेला नराणाम् ।
उदकममृतकल्पं दद्युराजीवितान्तं
नहि कृतमुपकारं साधवो विस्मरन्ति ।।

 

एक नारियल का पेड जब छोटा होता है तब वह थोडा सा ही पानी पीता है । फिर बडा होकर अपने ऊपर लगे हुए फलों की देखभाल करते हुए वह उन में अमृत के समान पानी भरकर लोगों को देता है । ऐसे ही साधुजन भी, एक छोटी से सहायता करने पर उसको न भूलते हुए निस्वार्थ होकर सही समय में सही प्रकार से हमारा मार्गदर्शन और प्रत्युपकार करते हैं ।

 

75.5K

Comments

zupky
सनातन धर्म के भविष्य के लिए वेदधारा के नेक कार्य से जुड़कर खुशी महसूस हो रही है -शशांक सिंह

आपकी वेबसाइट बहुत ही अनमोल और जानकारीपूर्ण है।💐💐 -आरव मिश्रा

शास्त्रों पर स्पष्ट और अधिकारिक शिक्षाओं के लिए गुरुजी को हार्दिक धन्यवाद -दिवाकर

वेदधारा के माध्यम से हिंदू धर्म के भविष्य को संरक्षित करने के लिए आपका समर्पण वास्तव में सराहनीय है -अभिषेक सोलंकी

आपका हिंदू शास्त्रों पर ज्ञान प्रेरणादायक है, बहुत धन्यवाद 🙏 -यश दीक्षित

Read more comments

कर्म के अनुसार ही अनुभव

कोई भी अनुभव बिना कारण का नहीं होता। श्रीराम जी मानते थे कि कौसल्या माता ने पूर्व जन्म में किसी माता के अपने पुत्र से वियोग करवाया होगा। इसलिए उनको इस जन्म में पुत्र वियोग सहना पडा।

कौन सा मंत्र जल्दी सिद्ध होता है?

कलौ चण्डीविनायकौ - कलयुग में चण्डी और गणेश जी के मंत्र जल्दी सिद्ध होते हैं।

Quiz

तमिल ग्रंथ तिरुक्कुरल के रचयिता कौन हैं ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |