दस दान

दस दान

दस दान पितरों की तृप्ति के लिए किया जाता है।

ये हैं -

  1. गाय
  2. भूमि
  3. तिल
  4. सोना
  5. घी
  6. वस्त्र
  7. धान्य
  8. गुड़
  9. चाँदी
  10. नमक

यह दान मृत्यु के समय, एकादशाह या द्वादशाह को किया जाता है।

गोभूतिलहिरण्याज्यं वासो धान्यं गुडानि च । 

रौप्यं लवणमित्याहुर्दशदानान्यनुक्रमात्॥

 

 

 

74.4K

Comments

wqwej
आपके प्रवचन हमेशा सही दिशा दिखाते हैं। 👍 -स्नेहा राकेश

वेद पाठशालाओं और गौशालाओं के लिए आप जो अच्छा काम कर रहे हैं, उसे देखकर बहुत खुशी हुई 🙏🙏🙏 -विजय मिश्रा

आपकी वेबसाइट से बहुत सी नई जानकारी मिलती है। -कुणाल गुप्ता

वेदधारा सनातन संस्कृति और सभ्यता की पहचान है जिससे अपनी संस्कृति समझने में मदद मिल रही है सनातन धर्म आगे बढ़ रहा है आपका बहुत बहुत धन्यवाद 🙏 -राकेश नारायण

यह वेबसाइट अत्यंत शिक्षाप्रद है।📓 -नील कश्यप

Read more comments

Knowledge Bank

मृत्युञ्जय मंत्र का अर्थ

तीन नेत्रों वाले शंकर जी, जिनकी महिमा का सुगन्ध चारों ओर फैला हुआ है, जो सबके पोषक हैं, उनकी हम पूजा करते हैं। वे हमें परेशानियों और मृत्यु से इस प्रकार सहज रूप से मोचित करें जैसे खरबूजा पक जाने पर बेल से अपने आप टूट जाता है। किंतु वे हमें मोक्ष रूपी सद्गाति से न छुडावें।

धर्म की जटिलताएँ

धर्म के सिद्धांत सीधे सर्वोच्च भगवान द्वारा स्थापित किए जाते हैं। ये सिद्धांत ऋषियों, सिद्धों, असुरों, मनुष्यों, विद्याधरों या चारणों द्वारा पूरी तरह से समझ में नहीं आते हैं। दिव्य ज्ञान मानवीय समझ से परे है और यहां तक ​​कि देवताओं की भी समझ से परे है।

Quiz

सर्पमाली किसका नाम है ?
Hindi Topics

Hindi Topics

श्राद्ध और परलोक

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |