दशरथ की मृत्यु

76.4K

Comments

havtm
आप लोग वैदिक गुरुकुलों का समर्थन करके हिंदू धर्म के पुनरुद्धार के लिए महान कार्य कर रहे हैं -साहिल वर्मा

आपकी वेबसाइट से बहुत सी महत्वपूर्ण जानकारी मिलती है। -दिशा जोशी

यह वेबसाइट ज्ञान का खजाना है। 🙏🙏🙏🙏🙏 -कीर्ति गुप्ता

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -User_sdh76o

वेदधारा के कार्यों से हिंदू धर्म का भविष्य उज्जवल दिखता है -शैलेश बाजपेयी

Read more comments

अनाहत चक्र को कैसे जागृत करें?

महायोगी गोरखनाथ जी के अनुसार अनाहत चक्र और उसमें स्थित बाणलिंग पर प्रतिदिन ४८०० सांस लेने के समय तक (५ घंटे २० मिनट) ध्यान करने से यह जागृत हो जाता है।

वन को नष्ट करने वालों के लिए नरक

इसे आसिपत्रान कहते हैं। इस वन में पेड़ - पौधों के पत्तों के रूप में तलवारें हैं। इन तलवारों से पापी को सताया जाता है।

Quiz

यज्ञ में ब्रह्मा की भूमिका क्या है ?

रामायण कहता है कि दशरथ श्रीराम जी से वियोग का दुःख सह न सके और उसी के कारण उनकी मृत्यु हो गई। यहाँ दो प्रश्न उठते हैं। पहला - दशरथ को श्रीराम जी से वियोग का सामना पहले भी हो चुका था, उस समय जब उन्हें ऋषि विश्वामित्र के साथ उ....

रामायण कहता है कि दशरथ श्रीराम जी से वियोग का दुःख सह न सके और उसी के कारण उनकी मृत्यु हो गई।

यहाँ दो प्रश्न उठते हैं।

पहला - दशरथ को श्रीराम जी से वियोग का सामना पहले भी हो चुका था, उस समय जब उन्हें ऋषि विश्वामित्र के साथ उनके यज्ञ की रक्षा के लिए भेजा गया था। उस समय वे इसे कैसे सह पाए।

दूसरा - यदि यह वियोग के दुःख के कारण हुआ था, तो मृत्यु श्रीराम जी के महल छोड़ते ही क्यों नहीं हुई? उनकी मृत्यु कुछ दिनों बाद ही हुई।

इन दोनों सवालों का जवाब तुलसीदास जी देते हैं।

श्रीराम जी को विश्वामित्र के साथ भेजने से पहले, ऋषि वशिष्ठ ने दशरथ को विश्वामित्र की शक्ति और किसी भी विपत्ति में श्रीराम जी की रक्षा करने की उनकी क्षमता के बारे में समझा लिया था।

विश्वामित्र श्रीराम जी को अपने यज्ञ की रक्षा के लिए इसलिए नहीं ले जा रहे थे क्योंकि उनके पास स्वयं इसे करने की शक्ति नहीं थी।

यह इसलिए था क्योंकि उन्होंने यज्ञ के लिए व्रत ले रखा था, यज्ञ के लिए दीक्षा ली थी और वे स्वयं बल या हिंसा का प्रयोग नहीं कर सकते थे।

दशरथ विश्वामित्र के श्रीराम जी के प्रति पिता के समान स्नेह के बारे में भी आश्वस्त थे।

और यह भी कि श्रीराम जी उस समय जल्द ही वापस आने वाले थे।

लेकिन वनवास के लिए, यह अलग था।

श्रीराम जी को किसी ने वनवास लेने के लिए मजबूर नहीं किया था।

उन्होंने अपने पिता के वचन की रक्षा के लिए स्वयं ऐसा किया।

दरअसल, दशरथ ने मंत्री सुमंत्र से कहा था, जो श्रीराम जी को साथ ले जा रहे थे - उन्हें चार दिन जंगल में घुमाएँ और वापस ले आएँ।

या कम से कम सीता को वापस ले आओ, वह राम से भिन्न नहीं हैं।

अगर वह यहाँ हैं, तो मुझे लगेगा कि राम भी यहीं हैं।

लेकिन जब सुमंत्र अकेले लौटे, तो दशरथ का दिल टूट गया।

वह जानते थे कि श्रीराम जी 14 साल से पहले नहीं लौटेंगे और उस दर्द में ही उनकी मृत्यु

हुई।

उन्हें अपने शरीर से इतनी घृणा हो गयी थी कि जो श्रीराम जी को दूर भेजने कारण बना, उनके प्राण ने शरीर को त्याग दिया।

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |