गीता के तत्त्वों को भगवान ने अपने ही जीवन में साक्षात्कार किया है

Only audio above. Video below.

 

गीता के तत्त्वों को भगवान ने अपने ही जीवन में साक्षात्कार किया है

 

68.9K

Comments

2btrG
वेदधारा के माध्यम से मिले सकारात्मकता और विकास के लिए आभारी हूँ। -Varsha Choudhry

वेदधारा की सेवा समाज के लिए अद्वितीय है 🙏 -योगेश प्रजापति

आपकी वेबसाइट बहुत ही अद्भुत और जानकारीपूर्ण है।✨ -अनुष्का शर्मा

गुरुजी का शास्त्रों की समझ गहरी और अधिकारिक है 🙏 -चितविलास

यह वेबसाइट बहुत ही शिक्षाप्रद और विशेष है। -विक्रांत वर्मा

Read more comments

प्रयागराज के त्रिवेणी संगम में कौन कौन सी नदियां मिलती हैं?

गंगा, यमुना और सरस्वती ।

अन्नदान करने से क्या क्या लाभ हैं ?

ब्रह्माण्ड पुराण के अनुसार अन्नदान करने वाले की आयु, धन-संपत्ति, दीप्ति और आकर्षणीयता बढती हैं । उसे ले जाने स्वर्गलोक से सोने से बना विमान आ जाता है । पद्म पुराण के अनुसार अन्नदान के समान कॊई दूसरा दान नहीं है । भूखे को खिलाने से इहलोक और परलोक में सुख की प्राप्ति होती है । परलोक में पहाडों के समान स्वादिष्ठ भोजन ऐसे दाता के लिए सर्वदा तैयार रहता है । अन्न के दाता को देवता और पितर आशीर्वाद देते हैं । उसे सारे पापों से मुक्ति मिलती है ।

Quiz

गोलोक क्या है ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |