गणेश, दुर्गा, क्षेत्रपाल, वास्तु पुरुष, रुद्र, इंद्र, मृत्यु और अग्नि की कृपा के लिए मंत्र

71.4K

Comments

h4eam

योग के तीन प्रकार के आचार्य

१. चोदक - जो योग में उतरने के लिए प्रेरणा देते हैं २. बोधक - जो योगाभ्यास सिखाते हैं ३. मोक्षद - जो अपने शिष्य को मोक्ष तक पहुंचाते हैं।

सुरभी की पुत्रियां कौन हैं?

सुरभि की चार पुत्रियां हैं- सुरूपा, हंसिका, सुभद्रा, सर्वकामदुघा। ये क्षीरसागर की पूर्व, दक्षिण, पश्चिम और उत्तर से रक्षा करती हैं।

Quiz

अगस्त्य और लोपामुद्रा के पुत्र का नाम ?

ॐ गणानां त्वा गणपतिं हवामहे कविं कवीनामुपवश्रवस्तमम्। ज्येष्ठराजं ब्रह्मणां ब्रह्मणस्पत आ नः शृण्वन्नूतिभिः सीद सादनम्।। जातवेदसे सुनवाम सोममरातीयतो नि दहाति वेदः। स नः पर्षदति दुर्गानि विश्वा नावेव सिन्धुं दुरि....

ॐ गणानां त्वा गणपतिं हवामहे कविं कवीनामुपवश्रवस्तमम्।
ज्येष्ठराजं ब्रह्मणां ब्रह्मणस्पत आ नः शृण्वन्नूतिभिः सीद सादनम्।।
जातवेदसे सुनवाम सोममरातीयतो नि दहाति वेदः।
स नः पर्षदति दुर्गानि विश्वा नावेव सिन्धुं दुरितात्यग्निः।।
क्षेत्रस्य पतिना वयं हितेनेव जयामसि।
गामश्वं पोषयित्न्वा स नो मृडातीदृशे।।
वास्तोष्पते प्रति जानीह्यस्मान् स्वावेशो अनमीवो भवा नः।
यत्त्वेमहे प्रति तन्नो जुषस्व शन्न एधि द्विपदे शं चतुष्पदे।।
वास्तोष्पते शग्मया शंसदा ते सक्षीमहि रण्वया गातुमत्या।
आ वः क्षेम उत योगे वरन्नो यूयं पात स्वस्तिभिः सदा नः।।
वास्तोष्पते प्र तरणो न एधि गोभिरश्वेभिरिन्दो।
अजरासस्ते सख्ये स्याम पितेव पुत्रान् प्रति नो जुषस्व।।
अमीवहा वास्तोष्पते विश्वा रूपाण्याविशन्।
सखा सुषेव एधि नः।।
त्र्यंबकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्।।
यत इन्द्र भयामहे ततो नो अभयं कृधि।
मघवञ्छग्धि तव तन्न ऊतये विड्विशो विमृधो जहि।।
स्वस्तिदा विशस्पतिर्वृत्रहा वि मृधो वशी।
वृषेन्द्रः पुर एतु नः स्वस्तिदा अभयङ्करः।।
येते सहस्रमयुतं पाशा मृत्यो मर्त्याय हन्तवे।
तान् यज्ञस्य मायया सर्वानव यजामहे।
मूर्धानन्दिवो अरतिं पृथिव्या वैश्वानरमृताय जातमग्निम्।
कविं सम्राजमतिथिं जनानामासन्ना पात्रं जनयन्त देवाः।।

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |