कुबेर अष्टोत्तर शतनामावली

83.8K
1.0K

Comments

7i2ft

रुद्राक्ष सिद्धि मंत्र

ॐ रोहणी रुद्राक्षी मनकरिन्द्री नमः । रुद्राक्षीयायां गंड संसारं पारवितं फूल माला जडयायामी जयमीस्यामी जमीस्यामी प्रलानी प्रलानी नमः । रुद्राक्षी बुटी सफलं करीयामी मूर मूरगामी यशस्वी स्वः । ज्या बूटी मोरी वाणी बुंटी दामिनी दामिमि स्वः । रमणी रमणी नमः नमः । इस मंत्र से रुद्राक्ष अभिमंत्रित करने से वह सिद्ध हो जाता है ।

पुराण के कितने कल्प हैं?

पुराणशास्त्र के चार कल्प हैं: १. वैदिक कल्प २. वेदव्यासीय कल्प ३. लोमहर्षणीय कल्प ४. औग्रश्रवस कल्प

Quiz

क्या, केतकी फूलों का उपयोग शिव पूजा में बिलकुल मना है ?

ॐ कुबेराय नमः। ॐ धनदाय नमः। ॐ श्रीमते नमः। ॐ यक्षेशाय नमः। ॐ गुह्यकेश्वराय नमः। ॐ निधीशाय नमः। ॐ शङ्करसखाय नमः। ॐ महालक्ष्मीनिवासभुवे नमः। ॐ महापद्मनिधीशाय नमः। ॐ पूर्णाय नमः। ॐ पद्मनिधीश्वराय नमः। ॐ शङ्खाख्यनिधिनाथाय ....

ॐ कुबेराय नमः। ॐ धनदाय नमः। ॐ श्रीमते नमः। ॐ यक्षेशाय नमः। ॐ गुह्यकेश्वराय नमः। ॐ निधीशाय नमः। ॐ शङ्करसखाय नमः। ॐ महालक्ष्मीनिवासभुवे नमः। ॐ महापद्मनिधीशाय नमः। ॐ पूर्णाय नमः।

ॐ पद्मनिधीश्वराय नमः। ॐ शङ्खाख्यनिधिनाथाय नमः। ॐ मकराख्यनिधिप्रियाय नमः। ॐ सुकच्छपाख्यनिधीशाय नमः। ॐ मुकुन्दनिधिनायकाय नमः। ॐ कुन्दाख्यनिधिनाथाय नमः। ॐ नीलनिध्यधिपाय नमः। ॐ महते नमः। ॐ वरनिधिदीपाय नमः। ॐ पूज्याय नमः।

ॐ लक्ष्मीसाम्राज्यदायकाय नमः। ॐ इलपिलापत्याय नमः। ॐ कोशाधीशाय नमः। ॐ कुलोचिताय नमः। ॐ अश्वारूढाय नमः। ॐ विश्ववन्द्याय नमः। ॐ विशेषज्ञाय नमः। ॐ विशारदाय नमः। ॐ नलकूबरनाथाय नमः। ॐ मणिग्रीवपित्रे नमः।

ॐ गूढमन्त्राय नमः। ॐ वैश्रवणाय नमः। ॐ चित्रलेखामनःप्रियाय नमः। ॐ एकपिनाकाय नमः। ॐ अलकाधीशाय नमः। ॐ पौलस्त्याय नमः। ॐ नरवाहनाय नमः। ॐ कैलासशैलनिलयाय नमः। ॐ राज्यदाय नमः। ॐ रावणाग्रजाय नमः।

ॐ चित्रचैत्ररथाय नमः। ॐ उद्यानविहाराय नमः। ॐ विहारसुकुतूहलाय नमः। ॐ महोत्साहाय नमः। ॐ महाप्राज्ञाय नमः। ॐ सदापुष्पकवाहनाय नमः। ॐ सार्वभौमाय नमः। ॐ अङ्गनाथाय नमः। ॐ सोमाय नमः। ॐ सौम्यादिकेश्वराय नमः।

ॐ पुण्यात्मने नमः। ॐ पुरुहुतश्रियै नमः। ॐ सर्वपुण्यजनेश्वराय नमः। ॐ नित्यकीर्तये नमः। ॐ निधिवेत्रे नमः। ॐ लङ्काप्राक्तननायकाय नमः। ॐ यक्षिणीवृताय नमः। ॐ यक्षाय नमः। ॐ परमशान्तात्मने नमः। ॐ यक्षराजे नमः।

ॐ यक्षिणीहृदयाय नमः। ॐ किन्नरेश्वराय नमः। ॐ किम्पुरुषनाथाय नमः। ॐ खड्गायुधाय नमः। ॐ वशिने नमः। ॐ ईशानदक्षपार्श्वस्थाय नमः। ॐ वायुवामसमाश्रयाय नमः। ॐ धर्ममार्गनिरताय नमः। ॐ धर्मसम्मुखसंस्थिताय नमः। ॐ नित्येश्वराय नमः।

ॐ धनाध्यक्षाय नमः। ॐ अष्टलक्ष्म्याश्रितालयाय नमः। ॐ मनुष्यधर्मिणे नमः। ॐ सुकृतिने नमः। ॐ कोषलक्ष्मीसमाश्रिताय नमः। ॐ धनलक्ष्मीनित्यवासाय नमः।
ॐ धान्यलक्ष्मीनिवासभुवे नमः। ॐ अष्टलक्ष्मीसदावासाय नमः। ॐ गजलक्ष्मीस्थिरालयाय नमः। ॐ राज्यलक्ष्मीजन्मगेहाय नमः।

ॐ धैर्यलक्ष्मीकृपाश्रयाय नमः। ॐ अखण्डैश्वर्यसंयुक्ताय नमः। ॐ नित्यानन्दाय नमः। ॐ सुखाश्रयाय नमः। ॐ नित्यतृप्ताय नमः। ॐ निराशाय नमः। ॐ निरुपद्रवाय नमः। ॐ नित्यकामाय नमः। ॐ निराकाङ्क्षाय नमः। ॐ निरुपाधिकवासभुवे नमः।

ॐ शान्ताय नमः। ॐ सर्वगुणोपेताय नमः। ॐ सर्वज्ञाय नमः। ॐ सर्वसम्मताय नमः। ॐ सदानन्दकृपालयाय नमः। ॐ गन्धर्वकुलसंसेव्याय नमः। ॐ सौगन्धिककुसुमप्रियाय नमः। ॐ स्वर्णनगरीवासाय नमः। ॐ निधिपीठसमाश्रयाय नमः।

ॐ महामेरूत्तरस्थाय नमः। ॐ महर्षिगणसंस्तुताय नमः। ॐ तुष्टाय नमः। ॐ शूर्पणखाज्येष्ठाय नमः। ॐ शिवपूजारताय नमः। ॐ अनघाय नमः। ॐ राजयोगसमायुक्ताय नमः। ॐ राजशेखरपूज्याय नमः। ॐ राजराजाय नमः।

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |