आस्तिक की मांग - सर्प यज्ञ को रोक दो

जनमेजय का सर्प यज्ञ चल रहा है। आस्तीक ने यज्ञ को रोकने के इरादे से यज्ञ-वेदी में प्रवेश किया है। अपनी माता के वंश, नाग-वंश को विनाश से बचाना है। उन्होंने जनमेजय और उनके यज्ञ की प्रशंसा की। जनमेजय प्रसन्न हुए। आस्तीक को ....

जनमेजय का सर्प यज्ञ चल रहा है।
आस्तीक ने यज्ञ को रोकने के इरादे से यज्ञ-वेदी में प्रवेश किया है।
अपनी माता के वंश, नाग-वंश को विनाश से बचाना है।
उन्होंने जनमेजय और उनके यज्ञ की प्रशंसा की।
जनमेजय प्रसन्न हुए।
आस्तीक को की कोई भी इच्छा हो तो उसे पूरी करना चाहते हैं जनमेजय।
यह एक प्रथा है।
यदि कोई विद्वान किसी याग वेदी में आता है और उसकी कोई इच्छा है, तो यजमान उसे पूरा करने के लिए बाध्य होता है।
आपको याद होगा बलि-चक्रवर्ती के यज्ञ के दौरान क्या हुआ था।
जनमेजय ने याग वेदी में बैठे पुरोहितों और विद्वानों से पूछा कि क्या वे आस्तीक की इच्छा पूरी कर सकते हैं।
आस्तीक एक छोटा लड़का था।
उन्होंने कहा: हाँ बिल्कुल।
कोई फर्क नहीं पड़ता।
यदि वह विद्वान है तो वह इसके लिए योग्य है।
लेकिन उन्होंने यह भी कहा: हमारा मुख्य कार्य अभी तक प्राप्त नहीं हुआ है।
तक्षक अभी यहाँ नहीं है।
जनमेजय ने आस्तीक से पूछा: आपकी क्या इच्छा है?
कृपया उसे कहें।
मैं इसे पूरा करूंगा, जो भी हो।
फिर उन्होंने पुरोहितों से कहा: किसी तरह तक्षक को यहां लाओ।
वह मेरा मुख्य शत्रु है।
ऋत्वि्कों ने, पुरोहितों ने कहा: हमारे शास्त्र और अग्नि कहते हैं कि इंद्र ने तक्षक को सुरक्षा दी है, वह इंद्र के महल में, स्वर्गलोक में छिपा है।
सूत वहां मौजूद थे।
सूत पुराणों के जानकार हैं।
उनसे पूछा गया; क्या यह सच है?
सूत को कैसे पता चलेगा?
वे पुराणों को जानते हैं।
यहां तक कि पिछले कल्प के पुराणों को भी।
अभी जो कुछ हो रहा है, वह पिछले कल्प में जो हुआ, उसका केवल एक पुनरावृत्ति है।
उन्होंने कहा: हाँ, वे सही हैं।
पिछले कल्प में भी यही हुआ था।
इंद्र ने पिछले कल्प में भी तक्षक को संरक्षण दिया था।
फिर सूत जनमेजय को सावधान क्यों नहीं कर रहे हैं कि यह बालक आस्तीक यज्ञ को रोकने जा रहा है।
शायद उनके पास ऐसा करने का अधिकार नहीं है, किया तो कहानी बदल जाएगी।
या हो सकता है, भविष्य उनसे छिपा हो।
जो अभी होना बाकी है, वह उनसे छिपा हो।
हम निश्चित रूप से नहीं जानते।
ऐसा ही कुछ होगा।
रामायण में भी यदि आप देखें, तो मंत्री सुमंत्र दशरथ से कहते हैं कि बहुत पहले सनतकुमार ने भविष्यवाणी की थी कि दशरथ पुत्र प्राप्ति के लिए अश्वमेध-याग करेंगे।
इससे उन्हें चार पुत्र प्राप्त होंगे और ऋश्यशृंग उस यज्ञ के आचार्य होंगे।
ऐसा नहीं है कि सब कुछ पता रहता है।
कुछ झलकियाँ उन्हें मिलती हैं भविष्य के बारे में भी।
या वे इसका केवल कुछ हिस्सा ही प्रकट करते हैं।
नहीं तो सनसनी खत्म हो जाएगी।
जनमेजय ने कहा, यदि ऐसा है तो तक्षक के साथ इन्द्र को भी यहाँ ले आओ।
ऋत्विकों ने इंद्र का आह्वान किया।
एक विमान पर चढ़े हुए इंद्र आकाश में अपने सभी वैभव के साथ दिखाई देने लेगे।
तक्षक इंद्र के उत्तरीये के नीचे छिपा हुआ था।
जनमेजय ने गुस्से में पुरोहितों से कहा: अगर इंद्र तक्षक को छुपा रहे है तो तक्षक के साथ इंद्र को भी आग में खींचो।
इंद्र ने सोचा होगा कि यह आह्वान उन्हें सम्मानित करने और आहुतियां देने के लिए है, लेकिन जब उन्हें एहसास हुआ कि क्या हो रहा है, तो उन्होंने तक्षक को छोड़कर निकल गये।
इस समय तक तक्षक का नाम लेकर अग्नि में आहुति दी जा चुकी थी।
उसे अग्नि में खींचा जा रहा था।
तक्षक बहुत बड़ा था।
वह हर तरह की भयानक आवाजें और चीखें निकालते हुए अग्नि में गिर रहा था।
यह देखकर पुरोहितों ने कहा: यह कार्य पूरा होने वाला है।
अब आप चाहें तो आस्तीक की इच्छा पूरी कर सकते हैं।
जनमेजय ने फिर से मंत्री की ओर देखा।
आप इतने महान विद्वान हैं, कृपया मुझे अपनी इच्छा बताएं।
बंद करो यह यज्ञ।
जनमेजय चौंक गए।
कृपया, ऐसा न करें।
यह पूरा यज्ञ तक्षक से बदला लेने के लिए आयोजित किया गया था।
वह अभी भी जिन्दा है।
जो चाहो मांग लो; सोना, चांदी, हीरे।
नहीं, मुझे और कुछ भी नहीं चाहिए।
बस इस यज्ञ को यहीं और अभी बंद कर दो ताकि मेरी माता का वंश बच जाए।
जनमेजय लगातार प्रार्थना करते रहे।
आस्तीक ने नहीं माना।
तब याग वेदी के विद्वानों ने कहा: आपके पास उनकी इच्छा पूरी करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।
आप पहले ही एक वादा कर चुके हैं।

Copyright © 2023 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |