आग्नेय कोण वास्तु शास्त्र में

South East direction devata Agni


वास्तु शास्त्र में दक्षिण-पूर्व दिशा को आग्नेय कोण कहते हैं।

आग्नेय कोण के देवता अग्नि हैं।

अग्नि भगवान बहुत ही क्रोधी और कार्य में तेज हैं।

उनके पास पूरी तरह से जलाकर नष्ट करने की शक्ति है।

आग्नेय कोण के दोषपूर्ण वास्तु के परिणाम भी तत्काल और अत्यधिक विनाशकारी होते हैं।

 

आग्नेय कोण क्या होता है?

किसी इमारत या भूखंड के पूर्व और दक्षिण दिशाओं के मिलन बिंदु को आग्नेय कोण कहा जाता है।

Click below to listen to Agni Suktam 

 

Full Agni Suktam Rig Veda Book 1 Hymn 1 Devanagari Sanskrit English

 

आग्नेय कोण में क्या क्या हो सकता है?

  • घरों में- रसोई, कार्यालय, बैठक कक्ष, पोर्टिको और अतिथि कक्ष।
  • उद्योगों या कार्यशालाओं में- ट्रांसफार्मर, जनरेटर, बॉयलर, भट्टियां आदि आग्नेय कोण में रखे जा सकते हैं। यह अधिक उत्पादन और बेहतर मुनाफे के लिए अच्छा है।

 

आग्नेय कोण में शौचालय

केवल स्नान करने के लिए बने स्नानघर आग्नेय कोण में बनाया जा सकता है।

वहां कमोड (WC)नहीं लगाना चाहिए।

 

आग्नेय कोण में क्या नहीं होना चाहिए?

  • शयनकक्ष - सोने के लिए आग्नेय कोण अच्छी नहीं होती है।
  • तिजोरी - धन की हानि होगी।

 

आग्नेय कोण में मंदिर

आग्नेय कोण में मंदिर होने से देवता नाराज हो जाते हैं।

 

आग्नेय कोण में मुख्य द्वार

  • ठीक आग्नेय कोण में - बच्चों के लिए परेशानी।
  • आग्नेय कोण के पूर्व में - चोरी।
  • आग्नेय कोण के दक्षिण में - पूरे परिवार के लिए परेशानी।

 

आग्नेय कोण में घर का विस्तार

घर को कभी भी आग्नेय कोण की ओर विस्तार / बढाई न करें।

यह उस घर में रहने वालों को चिंता और विषाद रोग का कारण बन सकता है और भारी कर्ज भी हो सकता है।

 

विस्तारित आग्नेय कोण वाले भूखंडों का प्रभाव

  • पूर्व की ओर बढ़ा हुआ - झगड़ा, वाद-विवाद।
  • दक्षिण दिशा में बढ़ा हुआ - प्रतिष्ठा की हानि।

घर के आग्नेय कोण की ओर ज्यादा खाली जगह न छोड़ें।

 

आग्नेय कोण के दोषपूर्ण वास्तु के सामान्य प्रभाव

  • स्त्रीरोग संबन्धी समस्यायें।
  • घर की महिलाओं का अधार्मिक व्यवहार।
  • विवाह में देरी।
  • कानूनी समस्यायें।
  • वित्तीय समस्यायें।
  • चोरी डकायती।
  • आग संबन्धी दुर्घटनाएं।
  • स्थायी रूप से शारीरिक अक्षमता की ओर ले जाने वाली दुर्घटनाएं।

 

भूखंड के आग्नेय कोण से आने वाली सड़कें

  • पूर्व से आने वाली सड़क - अच्छी नहीं है।
  • दक्षिण से आने वाली सड़क - अच्छी है।

अग्नि शुद्ध है और अग्नि में शुद्ध करने की शक्ति है।

जल निकासी को आग्नेय कोण से जाने न दें।

आग्नेय कोण में सेप्टिक टैंक का निर्माण न करें। इससे मुकदमेबाजी या चोरी हो सकती है।

अग्नि और जल विरोधी तत्व हैं।

आग्नेय कोण में कुआँ खोदने या पानी की टंकी का निर्माण करने से आग की दुर्घटनाएँ हो सकती हैं।

 

24.6K
1.2K

Comments

sGrG7
आप जो अच्छा काम कर रहे हैं उसे जानकर बहुत खुशी हुई -राजेश कुमार अग्रवाल

यह वेबसाइट ज्ञान का खजाना है। 🙏🙏🙏🙏🙏 -कीर्ति गुप्ता

वेदधारा को हिंदू धर्म के भविष्य के प्रयासों में देखकर बहुत खुशी हुई -सुभाष यशपाल

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -मदन शर्मा

वेद पाठशालाओं और गौशालाओं के लिए आप जो अच्छा काम कर रहे हैं, उसे देखकर बहुत खुशी हुई 🙏🙏🙏 -विजय मिश्रा

Read more comments

धर्म की जटिलताएँ

धर्म के सिद्धांत सीधे सर्वोच्च भगवान द्वारा स्थापित किए जाते हैं। ये सिद्धांत ऋषियों, सिद्धों, असुरों, मनुष्यों, विद्याधरों या चारणों द्वारा पूरी तरह से समझ में नहीं आते हैं। दिव्य ज्ञान मानवीय समझ से परे है और यहां तक ​​कि देवताओं की भी समझ से परे है।

भरत का जन्म और महत्व

भरत का जन्म राजा दुष्यन्त और शकुन्तला के पुत्र के रूप में हुआ। एक दिन, राजा दुष्यन्त ने कण्व ऋषि के आश्रम में शकुन्तला को देखा और उनसे विवाह किया। शकुन्तला ने एक पुत्र को जन्म दिया, जिसका नाम भरत रखा गया। भरत का भारतीय संस्कृति में महत्वपूर्ण स्थान है। उनके नाम पर ही भारत देश का नाम पड़ा। भरत को उनकी शक्ति, साहस और न्यायप्रियता के लिए जाना जाता है। वे एक महान राजा बने और उनके शासनकाल में भारत का विस्तार और समृद्धि हुई।

Quiz

यम - यमी संवाद किस विषय के ऊपरे है ?
Hindi Topics

Hindi Topics

विभिन्न विषय

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |