आग्नेयास्त्र

Agneyastra

 

आग्नेयास्त्र युद्ध में प्रयोग किये जाने वाला एक दिव्यास्त्र है।

पुराणों और इतिहासों में इसके उपयोग का उल्लेख मिलता है।

जब एक सामान्य तीर को आग्नेयास्त्र मंत्र से सक्रिय किया जाता है, तो वह आग्नेयास्त्र में बदल जाता है।

 

आग्नेयास्त्र की उत्पत्ति

सबसे पहले देवगुरु बृहस्पति ने ऋषि भरद्वाज को आग्नेयास्त्र दिया।

अग्निवेश ने इसे भरद्वाज से प्राप्त किया और उन्होंने इसे द्रोणाचार्य को दिया।

द्रोणाचार्य से अर्जुन ने प्राप्त किया।

खांडव वन को जलाने के समय अग्निदेव ने इसे स्वयं भगवान कृष्ण को दिया था।

आग्नेयास्त्र उन दिव्य हथियारों का भी हिस्सा था जो अर्जुन को महादेव के आशीर्वाद से इंद्र से प्राप्त हुए थे।

 

Click below to listen to सम्पूर्ण हनुमान चालीसा | संकटमोचन हनुमान | बजरंग बाण | श्री हनुमान स्तवन | 

 

सम्पूर्ण हनुमान चालीसा | संकटमोचन हनुमान | बजरंग बाण | श्री हनुमान स्तवन |

 

आग्नेयास्त्र का उपयोग कौन जानता था?

उपरोक्त के अतिरिक्त भीष्म, कर्ण और अश्वत्थामा भी आग्नेयास्त्र का प्रयोग कर सकते थे।

अर्जुन ने अंगारपर्ण नामक एक गंधर्व को आग्नेयास्त्र का प्रयोग सिखाया।

 

क्या होता है जब आग्नेयास्त्र का प्रयोग किया जाता है?

देवता भी आग्नेयास्त्र का सामना नहीं कर सकते।

आग्नेयास्त्र भयंकर बाणों की बौछार में बदल जाता है जो आग की लपटों को निकालकर चलते हैं।

इसका उपयोग शत्रु की सेना को जलाने के लिए किया जाता है।

आग्नेयास्त्र बहुत अधिक गर्मी उत्पन्न करता है।

आग्नेयास्त्र के प्रयोग से सूर्य अपनी चमक खो देता है और अंधेरा हो जाता है।

बादल खून की बारिश करने लगते हैं।

सभी जीव बेचैन हो जाते हैं।

आग्नेयास्त्र द्वारा बनाई गई अग्नि संवर्तकग्नि (प्रलय के समय की आग) के समान है।

 

आग्नेयास्त्र का मुकाबला कैसे किया जाता है?

आग्नेयास्त्र का मुकाबला या तो आग्नेयास्त्र से ही किया जाता है, या फिर ब्रह्मास्त्र से या वारुणास्त्र से।

पाशुपतास्त्र आग्नेयास्त्र से अधिक शक्तिशाली है।

 

आग्नेयास्त्र का प्रयोग किसने किसने किया है?

  • कर्ण ने अर्जुन के खिलाफ जिसका मुकाबला उन्होंने आग्नेयास्त्र से ही किया था।
  • द्रोणाचार्य ने सात्यकि के विरुद्ध जिसका उन्होंने वारुणास्त्र से मुकाबला किया।
  • युधिष्ठिर के खिलाफ द्रोणाचार्य ने।
  • अर्जुन के खिलाफ अश्वत्थामा जिसका उन्होंने ब्रह्मास्त्र से मुकाबला किया।
  • गोहरण के समय अर्जुन के खिलाफ द्रोणाचार्य ने।
  • गोहरण के समय एक दूसरे के खिलाफ भीष्माचार्य और अर्जुन ने।
  • चित्रसेन नामक गंधर्व की सेना के विरुद्ध अर्जुन ने।
  • गंधर्व, अंगपर्ण के विरुद्ध अर्जुन ने।
  • परशुराम के विरुद्ध भीष्माचार्य ने।
  • शाल्व के ऊपर कृष्ण ने। 

 

Recommended for you

लक्ष्मी हृदय स्तोत्र

 

Image attribution

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

Copyright © 2022 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |
Vedahdara - Personalize
Active Visitors:
3642042